समाचार
प्रियंका चोपड़ा को यूनिसेफ सद्भावना राजदूत के पद से हटाने की पाकिस्तान की मांग खारिज

बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा को यूनिसेफ सद्भावना राजदूत के पद से हटाने की पाकिस्तान की मांग को संयुक्त राष्ट्र ने खारिज कर दिया है। साथ ही उनके द्वारा भारतीय सेना की प्रशंसा करते हुए किए गए ट्वीट पर कहा कि वह अपनी व्यक्तिगत क्षमता में बोलने का अधिकार रखती है, जो उनकी चिंता से जुड़े होते हैं।

न्यूज़ 18 की रिपोर्ट के अनुसार, गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने प्रियंका के बारे में एक सवाल का जवाब देते हुए कहा, “जब यूनिसेफ के सद्भावना राजदूत अपनी व्यक्तिगत क्षमता में बोलते हैं तो वे उन मुद्दों के बारे में बोलने का अधिकार रखते हैं जो उनकी रुचि और चिंता से जुड़े होते हैं। उनके निजी विचार यूनिसेफ को प्रभावित नहीं करते हैं। जब वे यूनिसेफ की तरफ से बोलते हैं, तब हम उनसे उम्मीद करते हैं कि वे यूनिसेफ की निष्पक्ष नीति का पालन करें।”

इससे पहले, 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी शिविरों पर भारतीय वायुसेना की सर्जिकल स्ट्राइक के बाद प्रियंका चोपड़ा ने ट्वीट किया था जय हिंद भारतीय सेना। इसके साथ उन्होने तिरंगे का इमोजी बनाया था। इस ट्वीट के बाद से प्रियंका पाकिस्तान के लोगों की आलोचनाएँ झेल रही हैं। उन्हें यूनिसेफ के पद से हटाने के लिए ऑनलाइन याचिकाओं पर हस्ताक्षर किए गए थे।

भारत ने जब से जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा समाप्त किया है, तब से पाकिस्तान सरकार ने उसकी आलोचनाएँ करना तेज कर दी हैं। पाकिस्तानी मानवाधिकार मंत्री शिरीन मजारी ने यूनिसेफ के कार्यकारी निदेशक हेनरीटा फोर को पत्र लिखकर प्रियंका चोपड़ा को भारतीय सशस्त्र बलों के समर्थन का आरोप लगाते हुए उन्हें पद से हटाने की मांग की थी।