समाचार
अलीबाबा के मालिक जैक मा चीनी सरकार की आलोचना के बाद गत दो महीने से हैं गायब

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से विवाद के बाद गत दो महीने से अलीबाबा समूह के मालिक जैक मा नहीं देखे गए हैं। उन्होंने गत वर्ष शंघाई में दिए अपने भाषण में चीन के ‘ब्याजखोर’ वित्तीय नियामकों और सरकारी बैंकों की आलोचना की थी।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, जैक मा ने चीनी सरकार से अनुरोध किया था कि ऐसी व्यवस्था में परिवर्तन किया जाए, जो व्यापार में नई चीजें शुरू करने के प्रयास को दबाने की कोशिश करें। उन्होंने वैश्विक बैंकिंग नियमों को वृद्धों का क्लब कहा था। इसके बाद चीन की सत्ताधारी पार्टी भड़क गई थी।

इन बयानों के बाद सत्ताधारी पार्टी ने उनके कारोबार के खिलाफ असाधारण प्रतिबंध लगाने शुरू कर दिए थे। नवंबर में अधिकारियों ने उनके एंट ग्रुप के 37 अरब डॉलर के आईपीओ को निलंबित कर दिया था।

वॉल स्ट्रीट जनरल की रिपोर्ट के अनुसार, आईपीओ को निलंबित करने का आदेश शी जिनपिंग ने दिया था। जैक मां से क्रिसमस की पूर्व संध्या पर कहा गया था कि वह तब तक चीन से बाहर न जाएँ, जब तक अलीबाबा ग्रुप के खिलाफ चल रही जाँच पूरी नहीं हो जाती है। वह अपने टीवी शो अफ्रीका बिजेस हीरोज से भी गायब हो गए हैं। शो से उनकी तस्वीर भी हटा दी गई।