समाचार
एयरटेल हुआवे व ज़ेडटीई के स्थान पर यूरोपीय विक्रेताओं संग करेगी 5जी परीक्षण- रिपोर्ट

भारतीय दूरसंचार कंपनी भारती एयरटेल देश में आगामी 5जी परीक्षणों के लिए अपने चीनी विक्रेताओं हुआवे और ज़ेडटीई को छोड़कर यूरोपीय दूरसंचार सामग्री आपूर्तिकर्ता नोकिया और एरिक्सन के साथ की योजना बना रही है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, एयरटेल जल्द ही स्वीडन के एरिक्सन और फिनलैंड के नोकिया के साथ कोलकाता और बेंगलुरु में 5जी परीक्षणों के लिए नए आवेदन प्रस्तुत करेगी। टेल्को ने पहले दोनों सर्कल के लिए चीनी कंपनियों के साथ समझौता किया था।

यूरोपीय विक्रेताओं के लिए एयरटेल का विकल्प भी दूरसंचार विभाग (डीओटी) को मदद करने की उम्मीद के लिए है क्योंकि इसमें भारत के 5जी परीक्षणों से चीनी विक्रेताओं को बाहर रखने के लिए औपचारिक संचार जारी नहीं करना पड़ेगा।

केंद्र सरकार ने चीनी सामग्री निर्माताओं को राज्य के स्वामित्व वाली फर्मों बीएसएनएल और एमटीएनएल के लिए उपकरण की आपूर्ति करने पर प्रतिबंध लगा दिया था। साथ ही निजी तौर पर संकेत दिया था कि देश की कंपनियों के लिए भी ज़ेडटीई और हुआवेई को 5जी तैनाती की अनुमति नहीं दी जाएगी। हालाँकि, इस संबंध में अब तक किसी भी तरह का कोई औपचारिक संचार जारी नहीं किया गया है।

इस बीच, रिलायंस जियो ने सैमसंग के साथ 5जी परीक्षणों के लिए अलग-अलग आवेदन दायर किए हैं। वहीं, वोडाफोन-आइडिया ने चीनी और यूरोपीय दोनों सामग्री निर्माताओं के साथ आवेदन किया था। उम्मीद की जा रही है कि एजीआर के बकाए पर सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बाद हुआवे और ज़ेडटीई को बदल दिया जाएगा।