समाचार
पंजाब सचिव को सर्वोच्च न्यायालय की फटकार- “लोगों को इस तरह मरने नहीं दे सकते”

कई रिपोर्टों में पंजाब में जलाई जा रही पराली को दिल्ली के प्रदूषण का मुख्य कारण बताया जा रहा था व इस विषय पर सर्वोच्च न्यायालय ने सोमवार (25 नवंबर) को पंजाब के मुख्य सचिव को फटकार लगाई, दैनिक जागरण  ने रिपोर्ट किया।

“हम राज्य की हर मशीनरी को इसके लिए ज़िम्मेदार ठहराएँगे। आप इस तरह लोगों को मरने नहीं दे सकते। दिल्ली का दम घुट रहा है, क्योंकि आप इससे निपटने के उपायों को लागू करने में सक्षम नहीं हैं। इसका अर्थ यह नहीं है कि दिल्ली-एनसीआर में लोगों को कैंसर से मरने दिया जाए।”, न्यायालय ने कहा।

दूसरी ओर दिल्ली सरकार पर भी कड़ा रुख अपनाते हुआ न्यायाधीश अरुण मिश्रा ने कहा कि दिल्ली की हालत नर्क से भी खराब है ऐसे में सरकार को “दिल्ली की सत्ता में बने रहने का हक नहीं है।” न्यायालय ने निर्देश दिया कि केंद्र और दिल्ली सरकार अपने मतभेद भुलाकर शहर के विभिन्न स्थानों पर 10 दिनों के अंदर वायु शुद्धिकारक लगाने की योजना बनाएँ।