समाचार
वायुसेना ने चीन से तनाव को देख लद्दाख में तैनात किए सुखोई और मिराज, भर रहे उड़ान

भारतीय वायुसेना ने चीन के साथ लगातार बढ़ रहे तनाव को लेकर लद्दाख में सुखोई और मिराज जैसे अपने लड़ाकू विमान तैनात कर दिए हैं। गलवन घाटी से फगर-4 क्षेत्र में थल सेना ने भी युद्ध के सामान सहित जवानों व अधिकारियों की तैनाती शुरू कर दी है।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, सूत्रों से पता चला कि गलवन घाटी, हॉट स्प्रिंग और फगर-4 क्षेत्र में तैनात जवानों को पहले कुछ दिन लेह व अन्य जगहों पर रखा गया था, ताकि वे वहाँ की परिस्थितियों के साथ खुद को ढाल लें। लद्दाख के आगे के क्षेत्रों में तोपखाना और टैंक भी भेजे हैं।

वायुसेना पूर्वी लद्दाख में अपनी सीमा में सुखोई और मिराज विमान उड़ा रही है। चीन भी अपनी गतिविधियाँ लगातार बढ़ा रहा है। पूर्वी लद्दाख में गलवन घाटी के साथ सटे दुरबुक क्षेत्र के ग्रामीणों के मुताबिक, बीते कुछ दिनों से सेना की गतिविधियाँ तेजी हुई हैं। रोज शाम को 80-90 ट्रक अग्रिम क्षेत्रों की तरफ जा रहे हैं।

सूत्रों ने बताया कि लद्दाख स्थित सेना की 14 कोर किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है। उसके पास तोप, टैंक व अन्य आवश्यक युद्ध सामग्री है। लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद में चुशूल के काउंसलर कोन्चुक स्टेंजिन ने कहा कि तीन पंचायत हल्कों में आठ गाँव आते हैं जिनकी जनसंख्या 2,000 से अधिक है। वहाँ लोग डरे हुए हैं कि किसी भी समय युद्ध छिड़ सकता है।