समाचार
बिहार- नालंदा में हुए तबलीगी कार्यक्रम के बाद मस्जिद सील, 363 जमाती गायब

निज़ामुद्दीन मर्कज़ में तबलीगी जमात के आयोजन के बाद यह देश में सबसे बड़े कोविड-19 के संक्रमण को फैलाने के रूप में उभरकर आया है। स्वास्थ्य अधिकारी अब एक और तबलीगी कार्यक्रम पर नज़र रख रहे हैं, जो बिहार के नालंदा में आयोजित किया गया था।

टाइम्स नाऊ की एक रिपोर्ट के अनुसार, करीब 640 तबलीगी जमात के सदस्यों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया था। इसमें से 277 का पता लगाया गया और उन्हें छोड़ दिया गया लेकिन 363 अब भी लापता हैं।

नालंदा मर्कज़ कार्यक्रम 14 से 15 मार्च तक आयोजित किया गया था। जिला मजिस्ट्रेट ने कथित रूप से 12 अप्रैल को लिखे एक पत्र में इस घटना के बारे में अन्य विभागों को चेतावनी दी थी।

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि अधिकारियों को नालंदा मर्कज़ के एक कोविड-19 सकारात्मक व्यक्ति के संपर्क में आने की बात पता चली थी, जिसके बाद उन्होंने घटना को लेकर कार्रवाई शुरू की।

अधिकारियों ने अब बिहार शरीफ में इस क्षेत्र को बंद कर दिया है। कार्यक्रम की मेजबानी करने वाली मस्जिद को सील करने सहित आवश्यक लॉकडाउन प्रोटोकॉल शुरू किया गया।

रिपोर्ट में आधिकारिक बयान के अनुसार, कार्यक्रम में जमातियों की उपस्थिति बारिश की वजह से अपेक्षा के अनुरूप कम थी। इसमें हिस्सा लेने वाली जमाती कथित तौर पर बिहार के विभिन्न हिस्सों और झारखंड से पहुँचे थे।