समाचार
लोकसभा चुनाव में हार के बाद कांग्रेस सिर्फ राज्य स्तर पर कर रही है इफ्तार पार्टी

राहुल गांधी के नेतृत्व वाली कांग्रेस पार्टी ने केंद्रीय स्तर पर इफ्तार पार्टी की मेजबानी न करने का फैसला किया है। अब सिर्फ राज्य इकाइयाँ ही इसकी मेजबानी कर रही हैं।

डीएनए की रिपोर्ट के अनुसार, इसकी पुष्टि कांग्रेस के अल्पसंख्यक सेल के अध्यक्ष नदीम जावेद ने की है। पिछले साल पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने दिल्ली के एक होटल में भव्य इफ्तार पार्टी रखी थी।

कांग्रेस पार्टी पर हमेशा अल्पसंख्यकों की तुष्टीकरण का आरोप लगता आया है। इसके बाद पार्टी ने अपनी रणनीति बदलते हुए हिंदुत्व का चोला ओढ़ना शुरू कर दिया था। राहुल गांधी ने खुद को जनेऊधारी हिंदू बताया था। साथ ही 2017 में गुजरात चुनाव के बाद से विभिन्न मंदिरों में जाकर पूजा-अर्चना भी शुरू कर दी थी।

पार्टी ने आम चुनाव 2019 में बेहत खराब प्रदर्शन किया है। उसके खाते में कुल 52 सीटें ही आईं। वहीं भाजपा ने अकेल दम पर 303 रिकॉर्ड सीटें हासिल कीं।