समाचार
विदेशी मुद्रा भंडार रिकॉर्ड स्तर पर 507 अरब डॉलर के पार, स्वर्ण भंडार भी बढ़ा

लगातार उतार-चढ़ाव में भारतीय विदेशी मुद्रा भंडार, जो 5 जून को समाप्त हो रहे सप्ताह में 500 अरब डॉलर के ऐतिहासिक आँकड़े को पार कर गया था। अब यह आगे बढ़कर 507.64 अरब डॉलर तक पहुँच गया है।

फाइनेंशियल एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, 5 जून को समाप्त होने वाले सप्ताह के बाद से भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा प्रबंधित राष्ट्र के विदेशी मुद्रा भंडार में 5.94 अरब डॉलर (58,460 करोड़ रुपये) की वृद्धि हुई है। वहीं, विदेशी पूंजी भंडार में 12 जून को खत्म हुए सप्ताह में 5.942 अरब डॉलर की बढ़ोतरी दर्ज की गई है, जबकि स्वर्ण भंडार में 82.10 करोड़ डॉलर की वृद्धि हुई है।

विदेशी पूंजी भंडार में विदेशी मुद्रा भंडार, स्वर्ण भंडार, विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर) और आईएमएफ में भारतीय भंडार शामिल होते हैं। वैश्विक आर्थिक परेशानियों के बीच भंडार में वृद्धि के पीछे प्रमुख वजहों में से एक उच्च विदेशी निवेश है, जो इस अवधि के दौरान राष्ट्र को आकर्षित करने में सक्षम रही है।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि जून में 10 दिन शेष हैं। इस महीने अब तक भारत में विदेशी पोर्टफोलियो निवेश (एफपीआई) सात महीने के उच्च स्तर पर 18,000 करोड़ रुपये है। भारत आज दुनिया में पाँचवाँ सबसे अधिक विदेशी मुद्रा भंडार रखता है।