समाचार
अमेरिका से सफल वार्ता के बाद विदेश सचिव अब पेरिस, लंदन और बर्लिन यात्रा पर जाएँगे

केंद्र सरकार की संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के साथ टू प्लस टू की मंत्रिस्तरीय बैठक के सफल संचालन के बाद भारत अब यूरोप में रणनीतिक साझेदारों के साथ संबंधों को मजबूत करने के लिए तैयार है। उसी सिलसिले में केंद्रीय विदेश सचिव हर्ष शृंगला लंदन, पेरिस और बर्लिन की यात्रा पर जाने के लिए तैयार हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, यूरोप के प्रमुख स्थलों की अपनी यात्रा के दौरान शृंगला लंदन में पॉलिसी एक्सचेंज और पेरिस में आईएफआरआई जैसे स्थापित थिंक टैंक्स को संबोधित करेंगे। वह इन राष्ट्रों में व्यापारिक नेताओं के साथ बैठकें भी करेंगे।

यह गत कुछ महीनों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस जयशंकर द्वारा यूरोप के कई देशों के साथ ऑनलाइन संपर्क साधने का नतीजा है।

यूरोपीय देशों के साथ संबंधों में अधिक तालमेल और संरेखण के लिए भारत की यह पहल है। हालाँकि, उसे अब भी चीन और हिंद-प्रशांत महासागर के क्षेत्र जैसे कुछ प्रमुख विदेश नीति और सुरक्षा मुद्दों पर यूरोप के नज़रिए में बदलाव लाने को लेकर मेहनत करनी होगी। साथ ही भारत को यूरोप के साथ रक्षा, जलवायु और ऊर्जा जैसे मुद्दों पर भी विकास और सुरक्षा संबंधों को और मजबूती प्रदान करनी होगी।

विदेश सचिव के दौरे में कोविड-19 की चुनौतियों के छह महीने से अधिक समय बाद यूरोपीय देशों के साथ भारतीय जुड़ाव की संभावना है।