समाचार
पंजाब सरकार का महाराष्ट्र पर निशाना- नांदेड़ श्रद्धालुओं की जाँच न होने से मामले बढ़े

पंजाब में कोरोनावायरस के 24 घंटे में 330 मामले आने के बाद रविवार (3 मई) को कुल मामलों की संख्या 1103 तक पहुँच गई। अमृतसर के साथ पंजाब के 22 में से 16 जिलों में लगातार दूसरे दिन सबसे अधिक मामले आए। अमृतसर में पिछले 24 घंटे में 75 नए मामले आए। इस तरह वहाँ कुल 218 मामले हो गए।

स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिद्धू ने इसके लिए महाराष्ट्र के स्वास्थ्य अधिकारियों पर दोष मढ़ा। उन्होंने कहा, “करीब 4,000 तीर्थयात्रियों में से किसी का भी परीक्षण नहीं किया गया, जबकि वे वहाँ पर करीब एक महीने रहे थे।”

शुक्रवार को पंजाब में 200 से अधिक मामले आए, जिसमें 197 मामले नांदेड़ स्थित श्री हुजूर साहिब गुरुद्वारे से लौटे तीर्थयात्रियों के थे। द वीक पत्रिका ने स्वास्थ्य मंत्री के हवाले से लिखा, “क्या उन्हें क्वारंटीन किया था?, भेजने से पहले उनका परीक्षण हुआ था? अगर उन्होंने ऐसा किया होता तो यह स्थिति न आती। एक दिन के परीक्षण में बड़ी संख्या में लोग संक्रमित निकले, जो दर्शाता है कि महाराष्ट्र सरकार ने जानकर ऐसा किया।”

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने महाराष्ट्र पर नांदेड़ तीर्थयात्रियों के परीक्षण के झूठे दावे करने का आरोप लगाया। उन्होंनें कहा, “दुर्भाग्य से हमें नांदेड़ से जानकारी मिली थी कि महाराष्ट्र सरकार ने तीर्थयात्रियों के तीन बार परीक्षण किए थे और उनकी रिपोर्ट नकारात्मक आई थी। हमने यहाँ परीक्षण किए तो 200 से अधिक सकारात्मक निकले। संक्रमित मरीजों को पृथक केंद्रों में रखा गया है। चिकित्सकों की मंजूरी के बाद अब वे घर जा सकेंगे।”

महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री अशोक चव्हाण ने सभी आरोपों का खंडन किया। उनका दावा है कि तीर्थयात्री पंजाब में संक्रमित हुए होंगे। इस पर अमरिंदर सिंह ने कहा, “वो दो दिन में यहाँ पहुँचे। कोई अगर आज संक्रमित हुआ है तो उसकी अगले दिन जाँच रिपोर्ट सकारात्मक नहीं आएगी।”