समाचार
अफगान तालिबान ने अपने 11 आतंकियों के बदले तीन भारतीय इंजीनियरों को रिहा किया

अफगान तालिबान ने कम से कम 11 तालिबानी आतंकियों, जिनमें उनके प्रमुख नेता भी शामिल थे की रिहाई के बदले में तीन भारतीय बंधकों को रिहा कर दिया है।

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, अफगानिस्तान के लिए अमेरिका के विशेष प्रतिनिधि ज़लमेय खलीलजाद और तालिबान के प्रतिनिधि मुल्ला अब्दुल गनी बरदार हाल ही में इस्लामाबाद में मिले। इसके बाद 2018 से तालिबान की हिरासत में तीन भारतीय इंजीनियरों की रिहाई के बदले में अपने कैदियों की अदला-बदली का दोनों ने समझौता किया।

राजदूत खलीलजाद ने नेताओं और सदस्यों की रिहाई के बदले में तालिबान के पास कैद तीन भारतीय इंजीनियरों, एक अमेरिकी और एक ऑस्ट्रेलियाई नागरिक सहित कम से कम पाँच विदेशी कैदियों को रिहा करने के लिए कहा था।

रिहा किए गए 11 तालिबानी कैदियों में प्रमुख नेता शेख अब्दुल रहीम और मौलवी अब्दुर रशीद शामिल हैं। इन दोनों तालिबान नेताओं ने 2001 में अमेरिका के हस्तक्षेप से पहले तालिबान प्रशासन नेतृत्व वाले कुनार और निम्रोज़ प्रांतों के राज्यपालों के रूप में कार्य किया है।

अफगान तालिबान द्वारा भारतीय कैदियों की रिहाई की पुष्टि की जा रही है लेकिन अभी तक अफगान सरकार द्वारा इसकी पुष्टी नहीं की गई है। अब तक भारत सरकार को भी देश के इंजीनियरों की रिहाई की सूचना नहीं दी गई है।

मई 2018 में अफगानिस्तान के उत्तरी बागलान प्रांत में ऊर्जा संयंत्र के लिए काम करने वाले 7 भारतीय इंजीनियरों का अपहरण कर लिया गया था। बाद में तालिबान ने कथित तौर पर इस साल मार्च में बंधकों में से एक को रिहा कर दिया था।