समाचार
धर्मांतरण का विरोध करने पर मारे गए रामलिंगम के परिवार के लिए जुटाई गई सहायता राशि

मारे गए कार्यकर्ता रामलिंगम के परिवार को योगदान राशि देने के लिए एक अनुदान संचयक को केवल तीन दिनों में 24 लाख रुपये से अधिक का दान मिला है। माना जा रहा है कि रामलिंगम की हत्या कट्टरपंथी इस्लामवादियों द्वारा की गई थी क्योंकि उन्होंने हिंदू दलित निवासियों को धार्मिक रूप से परिवर्तित करने के उनके प्रयासों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी।

तमिल नाडु के तिरुभुवनम में कैटरिंग का कारोबार करने वाले रामलिंगम एक दिन बाद (7 फरवरी) को मुस्लिम बहुल इलाके से गुज़र रहे थे, जब उनकी वैन एक कार से भिड़ी थी। एक चार सदस्यीय गिरोह कार से बाहर आया और भागने से पहले रामलिंगम के हाथों पर धारदार हथियार से हमला कर दिया। यह दुख की बात है कि वह इस हमले से बच नहीं पाए।

हत्या के सिलसिले में कुल आठ लोगों को गिरफ्तार किया गया है और उनकी पहचान एस निजाम अली, सरबुद्दीन, रिजवान, मोहम्मद अजरुद्दीन और मोहम्मद राय्याज, मोहम्मद तौफीक, मोहम्मद परवेज और तौहीद बाशा के रूप में हुई है।

रामलिंगम अपने परिवार के लिए एकमात्र रोटी कमाने वाले व्यक्ति थे और इसलिए एक धनदाता ने परिवार को तत्काल सहायता के रूप में 10 लाख रुपये जुटाने की मांग की। संयोग से शुभचिंतकों के समर्थन से लक्ष्य जल्द ही हासिल हो गया और बाद में संशोधित होकर 20 लाख रुपये कर दिया गया। यह भी जल्द ही विभिन्न सोशल मीडिया उपयोगकर्ताओं द्वारा इस अभियान को काफी समर्थन मिला और वर्तमान में दान राशि 24.37 लाख रुपये तक हों गई है।

विभिन्न दाताओं के अनुरोधों के आधार पर अब धन राशि को संशोधित कर 30 लाख रुपये कर दिया गया है।

इस लिंक के माध्यम से आप भी सहयोग कर सकते हैं।