समाचार
पीयूष गोयल ने आत्मनिर्भर भारत वेबिनार में “वोकल फॉर लोकल” बनने का आह्वान किया

वेदांता लिमिटेड के सहयोग से स्वराज्य द्वारा आयोजित आत्मनिर्भर भारत शृंखला के उद्घाटन समारोह में रेल और व्यापार एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने आत्मनिर्भर भारत की अवधारणा की जड़ उपनिषदों में बताई। उन्होंने इस अभियान का उद्देश्य भारत को किसी भी विपदा को झेलने के लिए सक्षम बनाना बताया।

कोविड-19 की समस्या का भारत ने जैसे सामना किया उसकी सराहना करते हुए गोयल ने शुरुआती लॉकडाउन को अति आवश्यक बताया। नरेंद्र मोदी जैसे प्रधानमंत्री होने के प्रति गोयल ने कृतज्ञता भी व्यक्त की। “कोविड के समाप्त होने पर हम भारत को ऊँचाइयों पर ले जाएँगे।”, मंत्री ने विश्वास जताया।

व्यापार एवं उद्योग मंत्री होने के नाते उन्होंने बताया कि उनकी नज़र ऐसे उत्पादों पर है जिनका आयात निरर्थक है और उन्हें आसानी से भारत में बनाया जा सकता है। “उत्पादन आधारित प्रोत्साहन के तहत दिए गए 2 लाख करोड़ रुपये भारत के घरेलु उत्पाद तंत्र के मूल्य को 20 लाख करोड़ रुपये प्रति वर्ष तक ले जाएँगे।”, गोयल ने कहा।

“भारत के भाग्य के निर्माण के लिए भारत की पहचान का निर्माण होना चाहिए और आत्मनिर्भर भारत यही करेगा।”, गोयल ने कहते हुए सरदार वल्लभभाई पटेल को याद किया। उत्पादन में उच्च गुणवत्ता और उत्पादकता वृद्धि दोनों पर ध्यान दिया जा रहा है बताते हुए गोयल ने मेक इन इंडिया का श्रेय प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व को दिया।

“आत्मनिर्भर भारत का स्वप्न वास्तविक बनेगा लेकिन यह जन भागीदारी से ही संभव है”, कहकर पीयूष गोयल ने “वोकल फॉर लोकल” बनने का निवेदन सभी लोगों से किया।