समाचार
आधार संख्या अब 125 करोड़ भारतीयों के पास, विशिष्ट पहचान प्रणाली की नई उपलब्धि

शुक्रवार (12 दिसंबर) को इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (मेईटी) ने एक बयान जारी कर कहा है कि भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने घोषणा की है कि आधार परियोजना ने 125 करोड़ का आँकड़ा पार कर लिया है जिसका मतलब है कि भारत के 125 करोड़ से अधिक लोगों के पास अब 12 अंकों की विशिष्ट आधार संख्या मौजूद है।

मंत्रालय ने कहा, “आधार धारकों द्वारा प्राथमिक पहचान दस्तावेज के रूप में आधार के तेजी से बढ़ते उपयोग के साथ ही यह उपलब्धि प्राप्त हुुई है। यह इस तथ्य से स्पष्ट होता है कि आधार-आधारित प्रमाणीकरण सेवाओं की स्थापना के बाद से 37,000 करोड़ बार आधार का उपयोग किया गया।”

मंत्रालय ने कहा कि वर्तमान में यूआईडीएआई को हर दिन लगभग 3 करोड़ प्रमाणीकरण अनुरोध प्राप्त होते हैं।

मंत्रालय ने कहा कि यूआईडीएआई ने अब तक 331 करोड़ सफल आधार अपडेट (बायोमेट्रिक और जनसांख्यिकीय) दर्ज किए हैं। वर्तमान में यूआईडीएआई को प्रतिदिन लगभग 3-4 लाख आधार अपडेट अनुरोध प्राप्त होते हैं।

गौरतलब है कि आधार संख्या भारत के निवासियों के लिए यूआईडीएआई द्वारा जारी किया गया 12 अंकों की एक विशिष्ट पहचान संख्या है। कोई भी व्यक्ति, चाहे वह किसी भी उम्र और लिंग का हो, जो भारत का निवासी हो, स्वेच्छा से आधार संख्या प्राप्त करने के लिए नामांकन करवा सकता है। नामांकन के इच्छुक व्यक्ति को नामांकन प्रक्रिया के दौरान न्यूनतम जनसांख्यिकीय और बायोमेट्रिक जानकारी प्रदान करनी होती है। आधार और इसका नामांकन पूरी तरह से मुफ्त है।