समाचार
सीमा पार फायरिंग से पिछले 7 वर्ष में 90 जवान वीरगति को प्राप्त हुए और 454 घायल

गृह मंत्रालय ने सीमा पार से पिछले 7 वर्षों के दौरान गोलीबार और सीजफायर उल्लंघन की घटनाओं के आँकड़े जारी किए हैं। बताया गया कि इस अवधि के दौरान सीमा पार से फायरिंग और सीजफायर उल्लंघन के 6942 मामले हुए हैं। इन घटनाओं में 90 सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए और 454 घायल हुए थे।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. नूतन ठाकुर ने इस संबंध में सूचना मांगी थी, जिसकी जानकारी दी गई है। सूचना के अनुसार, ये आंकड़े 2013 से अगस्त 2019 के बीच जम्मू कश्मीर के एलओसी और अंतर-राष्ट्रीय बॉर्डर के हैं।

गृह मंत्रालय ने जानकारी में यह भी बताया, “सबसे अधिक 2140 घटनाएँ 2018 में हुई थीं। वहीं, अगस्त 2019 तक 2047 और वर्ष 2017 में 971 हमले हुए थे। 2013 में 347 और 2014 में 583 हमले हुए थे।

हमारे सुरक्षा बलों के लिए सबसे बुरा वक्त 2018 का रहा। इस वर्ष 29 जवान वीरगति को प्राप्त हो गए और 116 जख्मी हो गए। 2016 में 112 और 2017 व 2019 में अब तक 91 सुरक्षाकर्मी हताहत हुए हैं। 2013 में 38 तथा 2014 में 33 हताहत हुए थे।