समाचार
जीएसटी में फर्जी बिलिंग करके हरियाणा में 500 करोड़ रुपये का घोटाला, चार गिरफ्तार

जीएसटी में फर्जी बिलिंग करके हरियाणा के पानीपत में 500 करोड़ रुपये का घोटाला सामने आया है। तीन आरोपियों की निशानदेही पर आरोपी इनकम टैक्स वकील को गिरफ्तार किया गया है।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, वकील ने पूछताछ में 500 करोड़ रुपये के घोटाले की बात स्वीकारी है। उसे अदालत में पेश कर सात दिन की पुलिस रिमांड पर लिया गया है। सीआइए-टू सहित एसपी द्वारा गठित एसआइटी मामले की जाँच कर रही है।

एसपी ने बताया, “घोटाले में पकड़े गए चार आरोपियों में मास्टरमाइंड राजेश मित्तल, इंद्रप्रताप सिंह, मनीष सहित इनकम टैक्स वकील सतनारायण रोहिल्ला और राजेश का जीजा विपुल बिंदल शामिल है। अभी विपुल पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। ये सब आर्थिक रूप से कमजोर हैं।”

उन्होंने बताया, “आरोपियों ने 19 फर्जी फर्में बना रखी थीं, जिनमें 19 पानीपत और दो लखनऊ की थीं। उन्होंने 20 कर्मचारियों के कागजात पर पेन कार्ड बनवाकर ये फर्में बनाई थीं। आरोपी राजेश धागा फैक्ट्री में काम करता था। वह आरोपी वकील से जुड़ा। उन्होंने मिलकर योजना बनाई की फर्जी फर्म बनाकर बिलिंग का काम शुरू करते हैं। ”

फिलहाल, अभी इनके बैंक अकाउंट की जानकारियां खँगाली जा रही है। एसआईटी इनमें शामिल होने वालों को गवाह बनाएगी। कहा जा रहा है कि इनका माल यूपी जाता था। वहाँ सरकार हैंडलूम कारोबार पर सब्सिडी देती थी। इसका भी लाभ आरोपियों ने लिया है।