समाचार
गलवान हिंसा के एक वर्ष में 43% भारतीयों ने चीन में बने उत्पादों को नहीं खरीदा- सर्वेक्षण

चीन से हुई तनातनी के बाद अब तक एक वर्ष में आर्थिक मोर्चे पर भारतीय नागरिकों ने पड़ोसी देश की वस्तुओं का बड़े स्तर पर बहिष्कार किया। एक सर्वेक्षण के मुताबिक, 43 प्रतिशत भारतीयों ने गत 12 माह में चीन में बना कोई भी उत्पाद नहीं खरीदा है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, लोकलसर्कल्स के एक सर्वेक्षण में बताया गया कि जिन लोगों ने चीन में बने उत्पादों की खरीद की है, उनका कहना है कि ऐसा उन्होंने एक से दो बार ही किया है। वर्तमान सर्वेक्षण में देश के 281 जिलों के 18,000 लोगों को सम्मिलित किया गया।

सर्वेक्षण में सम्मिलित अधिकतर लोगों ने चीनी समान की खरीद के पीछे कम दाम और पैसे की बचत बताई। कुछ ने चीन में बने उत्पादों की अच्छी गुणवत्ता को भी खरीदने की वजह बताया।

गत एक वर्ष में चीनी सामान खरीदने वाले लोगों में से 70 प्रतिशत ने बताया कि उन्होंने पैसे की बचत की वजह से ऐसा किया। सर्वेक्षण में शामिल लोगों में से 14 प्रतिशत ने बताया कि उन्होंने एक वर्ष में तीन से पाँच और 7 प्रतिशत लोगों ने पाँच से 10 चीनी वस्तुएँ खरीदी थीं।

बता दें कि गलवान घाटी में हुई झड़प के बाद देशभर में चीन के खिलाफ गुस्सा था। लोकलसर्कल्स की ओर से गत वर्ष नवंबर में किए गए एक सर्वेक्षण के मुताबिक, उस वक्त 71 प्रतिशत भारतीयों ने चीन में बने किसी उत्पाद की खरीदारी नहीं की थी।