समाचार
लद्दाख में तेज़ी से हो रहा 40-50 पुलों का निर्माण, करीब डेढ़ वर्ष में होगा पूरा- बीआरओ

पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ तनाव के बीच भारत सीमावर्ती क्षेत्रों के लगभग 40-50 पुलों के निर्माण पर तेज़ी से काम कर रहा है। यह जानकारी सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल हरपाल सिंह ने सोमवार (12 अक्टूबर) को दी।

बीआरओ के महानिदेशक ने कहा, “इन पुलों पर काम अब छह महीने से लेकर डेढ़ साल के बीच में पूरा किया जाएगा।” उन्होंने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा भारत के सीमावर्ती राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 44 पुलों के उद्घाटन के बाद यह बयान दिया।

रक्षा मंत्रालय के अधीन काम करने वाली एजेंसी बीआरओ भारत के सीमावर्ती क्षेत्रों में रणनीतिक सड़कों, पुलों के निर्माण और उनके रखरखाव की जिम्मेदारी संभालती है। लेफ्टिनेंट जनरल हरपाल ने कहा, “लद्दाख में बड़ी संख्या में लगभग 40-50 पुल निर्माणाधीन हैं, जो 6 महीने से डेढ़ वर्ष के बीच पूरे हो जाएँगे।”

उन्होंने कहा, “भारत की सीमाओं के साथ आने वाले ये पुल तनाव के दौरान हमारी रणनीतिक ताकतों की गति को मजबूती प्रदान करेंगे।”

बता दें कि रक्षा मंत्री ने सोमवार को जिन 44 पुलों का उद्घाटन किया, उनमें से 10 जम्मू-कश्मीर में, 8 केंद्र लद्दाख में, 2 हिमाचल प्रदेश में, 4 पंजाब में, 8 उत्तराखंड में और 4 सिक्किम में हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस महीने की शुरुआत में हिमाचल प्रदेश के रोहतांग में दुनिया की सबसे लंबी हाईवे सुरंग अटल टनल का लोकार्पण किया था। यह सुरंग सभी मौसम में खुली रहेगी। इससे मनाली और लेह के बीच की दूरी 46 किलोमीटर कम हो गई।