समाचार
कश्मीर घाटी में हमले के अनुमान पर 28,000 सुरक्षाकर्मी तैनात, धर्मस्थलों से हटाई सुरक्षा

कश्‍मीर घाटी में सुरक्षाबलों की 280 से अधिक कंपनियों के 28,000 जवान तैनात किए जा रहे हैं। खबरें मिली हैं कि सियासी हलचल और विदेशी आतंकवाद के हमले की खुफिया जानकारी के बाद राज्य में सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था की जा रही है।

नवभारत टाइम्स  की रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया कि सुरक्षाबलों को श्रीनगर के अतिसंवेदनशील क्षेत्रों और घाटी की अन्य जगहों पर तैनात किया जा रहा है। इनमें ज़्यादातर सीआरपीएफ के जवान हैं। हालाँकि, अभी तक यह साफ नहीं किया गया है कि जवानों को क्यों तैनात किया जा रहा है।

सूत्रों की मानें तो शहर में प्रवेश और निकासी के सभी रास्तों पर जवान तैनात हो गए हैं। स्थानीय निवासी घबराकर ज़रूरी सामान खरीदना शुरू कर चुके हैं। अधिकारियों ने बताया, कुछ “धर्मस्थलों से सुरक्षा हटा दी गई है। अमरनाथ यात्रा के लिए चलाए जा रहे लंगर बंद करवा दिए गए हैं।”

इससे पूर्व, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के कश्मीर दौरे से लौटते ही 10,000 सुरक्षाकर्मियों को राज्य में भेजने का आदेश दिया गया था। केंद्र के इस फैसले का पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने विरोध किया था। उन्होंने ट्वीट कर कहा था, “इससे घाटी में भय का माहौल पैदा हो रहा है।”

कहा जा रहा है कि देश के विभिन्न हिस्सों में तैनात केंद्रीय सुरक्षा बलों को एयरलिफ्ट कर सीधे कश्मीर पहुँचाया जा रहा है। इसमें सेना के मालवाहक विमान लगे हैं। गृह मंत्रालय ने 25 जुलाई को केंद्रीय सशस्त्र बलों की अतिरिक्त 100 कंपनियों की तैनाती का आदेश जारी किया था।