समाचार
“भारत के हवाई हमले में जैश के 25 कमांडर मारे गए”- सुरक्षा बैठक में अजीत डोभाल

नई दिल्ली में कैबिनेट सुरक्षा समिति की एक बैठक को संबोधित करते हुए, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल ने खुलासा किया कि ऑपरेशन में जैशमोहम्मद (जेम) के 25 शीर्ष कमांडरों को समाप्त कर दिया गया है, इंडिया टुडे  ने बताया।

यह बैठक कल (26 फरवरी) सुबह भारतीय वायु सेना (आईएएफ) द्वारा पाकिस्तान के अंदर हवाई हमला करने के बाद की गई।

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हाल ही में हुए आतंकी हमले के मद्देनज़र पाकिस्तान के ख़ैबर पख़्तूनख़्वा के बालाकोट में जैश के सबसे बड़े आतंकवादी प्रशिक्षण शिविर पर हमला किया गया था।

डोभाल ने टिप्पणी की कि नष्ट किया गया लक्ष्य एक सामान्य आतंकी लॉन्च पैड या आधार नहीं था। उन्होंने कहा कियह उनका एक वास्तविक गढ़ था।

एनएसए ने बताया कि किस तरह से इस सुविधा में फायरिंग रेंज, विस्फोटकों के लिए परीक्षण क्षेत्र, प्रशिक्षकों के लिए वातानुकूलित कार्यालय और साथ ही एक बैरक शामिल हैं।

डोभाल ने दावा किया कि बालाकोट में आतंकवादी तंत्र पाकिस्तानी सेना और इंटरसर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) की मदद से स्थापित किया गया था।

उन्होंने कहा कि एक ही स्थान पर इतने सारे जेम कमांडरों की उपस्थिति, पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हमले की अंतर्राष्ट्रीय निंदा के बाद आईएसआई द्वारा उठाए गए कई हताश कदमों का हिस्सा थी।

इससे पहले, विदेश सचिव विजय गोखले ने कहा कि रिक्तिपूर्व हमले की आवश्यकता थी क्योंकि जैशमोहम्मद के खिलाफ विश्वसनीय खुफिया इनपुट थे कि ये भारत के खिलाफ आतंकी हमलों के लिए और अधिक आत्मघाती हमलावरों को प्रशिक्षित कर रहा था।

उन्होंने यह भी खुलासा किया था कि आतंकी शिविर का संचालन जेम सुप्रीमो मसूद अजहर के बहनोई मौलाना यूसुफ अजहर के निर्देशन में किया जा रहा था, जो इंटरपोल की तलाश सूची में एक आतंकवादी है।