समाचार
सीएए- रेलवे संपत्तियों को नुकसान पहुँचाने वाले 21 गिरफ्तार, 88 करोड़ वसूले जाएँगे

नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) को लेकर देशभर में हुए भारी हिंसात्मक विरोध प्रदर्शनों के बीच रेलवे की संपत्तियों को भी बहुत नुकसान पहुँचाया गया था। हिंसा में रेलवे की संपत्तियों को नुकसान पहुँचाने के आरोप में पश्चिम बंगाल, बिहार और असम में 21 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। अब इन आरोपियों से 88 करोड़ रुपये वसूले जाएँगे।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) ने संपत्ति के नुकसान को लेकर 27 मामले दर्ज किए हैं। इसके अलावा, रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) ने आगजनी, हिंसा, रेलवे संपत्ति को नुकसान पहुँचाने के लिए 54 मामले दर्ज किए हैं।

आरपीएफ के अनुसार, सीसीटीवी और वीडियो फुटेज को देखकर अन्य आरोपियों की पहचान की जा रही है। जल्द ही इस मामले में कुछ और गिरफ्तारियाँ भी हो सकती हैं। भारतीय रेलवे अधिनियम की धारा 151 के तहत रेल संपत्ति को नुकसान पहुँचाने का हर्जाना वसूला जाएगा। इसके तहत अधिकतम सात वर्ष जेल की सजा का भी प्रावधान है। हर्जाने की वसूली के लिए रेलवे अदालत की शरण ले सकता है।

बता दें कि सीएए को लेकर हुई हिंसा के दौरान पश्चिम बंगाल में सबसे अधिक रेलवे को नुकसान हुआ था। संकरैल रेलवे स्टेशन का टिकट काउंटर जला दिया गया था। सुजनीपारा और मालदा में हरिश्चंद्र रेलवे स्टेशन तोड़े गए थे। कृष्णपुर रेलवे स्टेशन पर कई ट्रेनों में आग लगा दी गई थी।