समाचार
रिश्वत के मामले 2018 में भारत में 10 प्रतिशत घटे, पर समस्या बरकरार- ट्रांसपेरेंसी रिपोर्ट

ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल इंडिया द्वारा लोकल.सर्किल्स के सहयोग से कराए गए सर्वेक्षण से पता चला है कि भारत में साल 2017 के मुकाबले साल 2018 में रिश्वत की घटनाओं में 10 प्रतिशत की गिरावट आई है।

इकनॉमिक टाइम्स की खबर के अनुसार सर्वेक्षण के आँकड़ों में गुजरात, पश्चिम बंगाल, हरियाणा, केरल, गोवा और ओडिशा के प्रतिभागियों ने रिश्वत देने के मामलों की कम सूचना दी।

जबकि बिहार, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, तमिलनाडु, पंजाब और झारखंड जैसे राज्यों में यह दर अधिक थी।

इस अध्ययन का हिस्सा बनने वाले 1,90,000 प्रतिभागियों में से 51 प्रतिशत ने कहा कि उन्हें पिछले 12 महीनों में रिश्वत देनी पड़ी जबकि 16 प्रतिशत लोगों ने कहा कि उन्होंने अधिकारियों को कभी रिश्वत नहीं दी।

यद्यपि भ्रष्टाचार भारत की एक जटिल समस्या है पर इन आँकड़ों में आई गिरावट का मतलब है कि भ्रष्टाचार धारणा सूचकांक (सीपीआई) में भारत तीन स्थानों का सुधार कर अब यह 78 पर आ गया है। बता दें कि कुल 180 देशों में यह सर्वेक्षण होता है।