समाचार
ताइवान की राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण में दो भाजपा सांसदों के सम्मिलित होने पर भड़का चीन

भाजपा के दो सांसद मंगलवार को ताइवान की राष्ट्रपति साइ इंग-वेन के शपथ ग्रहण समारोह में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शामिल हुए। इस पर चीन ने आपत्ति जताते हुए भारत से उनके आंतरिक मामलों में दखल देने से बचने को कहा है।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी और राजस्थान के चूरू के सांसद राहुल कासवान इस समारोह में सम्मिलित हुए थे और राष्ट्रपति को उन्हें दूसरे कार्यकाल की बधाई दी।

साइ इंग-वेन के शपथ ग्रहण समारोह में 41 देशों की 92 व्यक्तित्वों ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शिरकत की। भारत के अलावा, अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो भी समारोह में शामिल हुए।

भारतीय सांसदों के शामिल होने पर चीन ने लिखित में आपत्ति जताई है। नई दिल्ली में चीनी राजदूत की काउंसिलर लिउ बिंग ने भारत से उनके आंतरिक मामलों में दखल देने से बचने को कहा है। उन्होंने कहा, “इंग-वेन को बधाई देना बिल्कुल गलत है।”

भाजपा सांसद कासवान ने कहा, “यह कदम भारत के निरंतर रुख के अनुरूप है। मैंने ताइवान की राष्ट्रपति को बधाई संदेश भेजा, जो मुझे लगता है कि भारत के रुख का उल्लंघन नहीं है।” चीन के विदेश मंत्रालय का कहना है, “उनका देश उम्मीद करता है कि हर कोई ताइवान की स्वतंत्रता के लिए चलाई जा रही अलगाववादी गतिविधियों को लेकर चीन के लोगों के विरोध का समर्थन करेगा।”