समाचार
कोरोना की दूसरी लहर के बीच दिल्ली कूच करने को 15,000 आंदोलनकारी किसान तैयार

कोरोना महामारी के बावजूद आने वाले दिनों में 10,000 से 15,000 आंदोलनकारी किसान एकत्रित होकर दिल्ली तक मार्च करने की तैयारी में हैं।

द हिंदू में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) और किसान मजदूर संघर्ष समिति (केएमएससी) ने घोषणा की कि राज्य के कई हिस्सों से किसानों और खेती करने वाले मजदूरों के समूह आने वाले दिनों में दिल्ली की ओर बढ़ना शुरू कर देंगे, ताकि आंदोलन स्थलों पर प्रदर्शनकारियों की संख्या बढ़ती रहे।

केएमएससी के महासचिव सरवन सिंह पंढेर ने संवाददाताओं से कहा, “5 मई को करीब एक हजार ट्रैक्टर-ट्रॉलियाँ और अन्य वाहन अमृतसर जिले से अकेले दिल्ली तक मार्च शुरू करेंगे। हम अपने नवीनतम खेमे में 10,000-15,000 लोगों की उम्मीद कर रहे हैं, जो सिंघू-कुंडली सीमा तक जाएँगे। दिल्ली की सीमाओं पर जब से आंदोलन शुरू हुआ है, तब से यह हमारा 12वाँ बड़ा खेमा होगा, जो जाएगा। किसान समूहों की छोटी-छोटी संख्या लगातार जा रही है और दिल्ली की सीमाओं से कई गाँवों से नियमित आधार पर वापस भी आती है।”

भाकियू (यू) के महासचिव सुखदेव सिंह ने कहा, “विरोध की रणनीति को लेकर चर्चा जारी थी। किसानों के साथ चर्चा जारी रहेगी, जो कि 10 मई तक चलेगी। हम राज्य से दिल्ली सीमा पर लोगों की टुकड़ी भेजेंगे। हम दिल्ली का मोर्चा मजबूत करने के लिए लोगों को एकत्रित कर रहे हैं। हम लोगों को दिल्ली जाने और पंजाब में चल रहे मोर्चा को मजूबत करने के लिए लगातार गतिविधियाँ संचालित कर रहे हैं।”

सुखदेव सिंह ने आगे कहा, “21 अप्रैल को करीब 18,000 किसानों की एक टुकड़ी दिल्ली के लिए रवाना हुई थी। अब फिर से हम बड़ी संख्या में लोगों को दिल्ली भेजने की तैयारी कर रहे हैं।”

बता दें कि पंजाब में सोमवार (3 मई) को 6,798 नए कोविड मामले आए हैं, जबकि 6016 मरीज इससे ठीक हुए हैं और 157 लोगों की मौत हुई है। इस तरह राज्य में कुल 60,709 सक्रिय मामले हैं।