समाचार
12वीं के परिणाम पिछली परीक्षाओं के 30:30:40 नियम के आधार पर आने की संभावना

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों के परिणाम 10वीं व 11वीं कक्षा की परीक्षा और 12वीं कक्षा के प्री-बोर्ड परीक्षा के परिणामों के आधार पर आने की संभावना है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, प्रधानाचार्यों ने बताया कि सीबीएसई द्वारा नियुक्त 13-सदस्यीय समिति विद्यार्थियों के मूल्यांकन के मानदंडों की सिफारिश के लिए 30:30:40 के नियम के पक्ष में लग रहे हैं। इसमें क्रमशः 10वीं व 11वीं कक्षा के अंतिम परिणामों को 30 प्रतिशत भारिता दी जाएगी और 12वीं कक्षा के प्री-बोर्ड परीक्षा के परिणामों को 40 प्रतिशत भारिता दी जाएगी।

आशा है कि समिति 17 जून को सर्वोच्च न्यायालय में अपनी इस नीति के बारे में बताएगी और उसके बाद परिणाम घोषित करने के निर्णय की घोषणा की जाएगी। गत माह, अभिभावकों ने न्यायालय में एक पीआईएल दायर करके कोरोना के कारण 12वीं कक्षा की सीबीएसई परीक्षा को रद्द करने की मांग की थी।

सीबीएसई ने 1 जून को 12वीं की परीक्षा रद्द की थी। महाराष्ट्र सहित कई राज्य बोर्डों ने बाद में अपनी परीक्षा रद्द कर दी थी। जो स्कूल अपने प्रैक्टिकल नहीं कर सके हैं, उन्हें ऑनलाइन प्रैक्टिकल टेस्ट और मौखिक उसे आयोजित करने का निर्देश दिया गया है। इसके आंतरिक मूल्यांकन अंक 28 जून तक सीबीएसई प्रणाली पर अपलोड किए जाने हैं।