समाचार
‘न खाऊँगा, न खाने दूँगा’- आयकर विभाग के 12 वरिष्ठ अधिकारी 11 जून से सेवामुक्त

आयकर विभाग के 12 वरिष्ठ अधिकारियों को केंद्र सरकार ने धोखाधड़ी, रंगदारी और यौन शोषण जैसे आरोपों के चलते सेवानिवृत्त होने का आदेश दिया है। नौकरशाही को भ्रष्टाचार मुक्त करने की यह अभूतपूर्व पहल है व इसका विस्तार अन्य विभागों में भी हो सकता है।

“यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘न खाऊँगा, न खाने दूँगा’ के कथन के अनुसार ही है और कड़ा संदेश देता है कि सभी स्तरों पर भ्रष्टाचार का विरोध किया जाएगा।”, एक सरकारी अधिकारी ने हिंदुस्तान टाइम्स  को बताया।

हिंदुस्तान टाइम्स  को सोमवार (10 जून) को जारी किया गया निर्देश भी मिला जो कहता है, “राष्ट्रपति का मानना है कि यह कदम जनहित में है इसलिए नियम 56 (जे) के तहत राष्ट्रपति 11 जून 2019 से इन अधिकारियों को सेवानिवृत्त करते हैं।”

इन 12 अधिकारियों में सात कमिशनर हैं, एक संयुक्त कमिशनर, तीन अतिरिक्त कमिशनर और एक सहायक कमिशनर है।