समाचार
उत्तर प्रदेश- हिंसा भड़काने के आरोप में चार दिन में पीएफआई के 108 सदस्य गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) एनआरसी को लेकर हिंसा भड़काने के आरोप में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के 108 सदस्यों को पिछले चार दिनों में गिरफ्तार किया गया है। प्रदेश के गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव ने सोमवार को इसकी जानकारी दी है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी और डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने प्रेस वार्ता आयोजित कर बताया, “वित्तीय लेन-देन की सूचना समेत पीएफआई के बारे में और भी कई जानकारियाँ एकत्रित की जा रही हैं। हम केंद्रीय एजेंसियों से भी मदद ले रहे हैं। यह अभी शुरुआती कार्रवाई है।”

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, 108 गिरफ्तारियों में लखनऊ से 14, सीतापुर से 3, मेरठ से 21, गाजियाबाद से 9, मुजफ्फरनगर से 6, शामली से 7, बिजनौर से 4, वाराणसी से 20, कानपुर से 5, गोंडा से 1, बहराइच से 16, हापुड़ से 1 और जौनपुर से 1 सदस्य को गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस ने आशंका जताते हुए कहा, “पीएफआई के बड़े नेता कर्नाटक और तमिलनाडु से फंड मुहैया करवा रहे थे, जिसे सरहद पार से आईएसआई भेज रही थी। आरोपियों को फंड से भीड़ जुटाने और हिंसा के लिए सामान जुटाने की जिम्मेदारी दी गई थी। आरोपियों ने पूछताछ में अपने संगठन के कई और सदस्यों के नाम भी बताए हैं।”

बता दें कि इससे पूर्व, उत्तर प्रदेश के 13 जनपदों में सक्रिय पीएफआई के 25 पदाधिकारी और सदस्य गिरफ्तार हो चुके हैं।