समाचार
मध्य प्रदेश- जमातियों की खोज में दस पुलिसकर्मी हो गए कोरोनावायरस से संक्रमित

मध्य प्रदेश में कोरोनावायरस के मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं। राज्य के दस पुलिसकर्मी कोविड-19 परीक्षण में संक्रमित पाए गए हैं। भोपाल के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) उपेंद्र जैन को शक है कि दिल्ली के निज़ामुद्दीन में तबलीगी जमात की बैठक में भाग लेने वालों की तलाश के लिए पुलिस ने जो छापेमारी की थी, उससे वो संक्रमित हो गए हैं।

हिंदुस्तान टाइम्स ने आईजी के हवाले से कहा, “99.99 प्रतिशत आशंका है कि हमारे पुलिसकर्मी तबलीगी जमात के सदस्यों का कई मस्जिदों में पता लगाने और तलाशी करने गए थे। वे इसी वजह से वायरस से संक्रमित हो गए।”

उन्होंने बताया, “तलाशी अभियान मुख्य रूप से भोपाल के दो पुलिस स्टेशनों जहाँगीराबाद और ऐशबाग के पुलिसकर्मियों द्वारा किया गया था। इस दौरान 32 जमातियों का पता चला था, जिनमें विभिन्न स्थानों पर सात विदेशी जमाती भी शामिल थे।”

जिन जमातियों का पता चला है, उनमें से 12 ने निज़ामुद्दीन मरकज़ में हुई धार्मिक सभा में हिस्सा लिया था। इनमें से कम से कम 20 पहले ही वायरस के परीक्षण में सकारात्मक निकल चुके हैं।

गौर करने वाली बात यह है कि कोरोनावायरस से प्रभावित दस पुलिसकर्मियों में से उनके परिवार के पाँच सदस्य भी संक्रमित हो गए हैं, जिनके परिणाम सकारात्मक आए हैं। पीड़ित पुलिसकर्मियों को पृथक केंद्रों में भेजा गया है।

आईजी ने यह भी बताया कि भोपाल के सभी पुलिस थानों को अब साफ-सुथरा बनाया जा रहा है। होटल में 1000 से ज्यादा पुलिसकर्मी रह रहे हैं।