समाचार
प्रधानमंत्री आईएएस प्रशिक्षुओं से बोले, “आधुनिक व आत्मनिर्भर देश बनाने से कभी न चूकें”

मसूरी के लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी के प्रशिक्षु अधिकारियों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार (17 मार्च) को कहा कि वे भारत को एक आधुनिक और आत्मनिर्भर देश के रूप में विकसित करने के सबसे बड़े लक्ष्य से कभी न चूकें।

उन्होंने संस्थान के 96वें सामान्य बुनियादी पाठ्यक्रम के समापन सत्र में कहा, “स्वयं को विकसित करने के अतिरिक्त भारत को कोविड-19 के बाद उभरती नई विश्व व्यवस्था में एक बड़ी भूमिका निभानी है।”

उन्होंने कहा, “मैंने सिविल सेवा प्रशिक्षुओं के कई बैचों के साथ वार्ता की है लेकिन आपका बैच विशेष है क्योंकि आपने इसे उस वर्ष में किया है, जब भारत स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे कर रहा है। देश जब अपनी स्वतंत्रता के 100 वर्ष पूरे करेगा तो आप सेवा में होंगे।”

प्रशिक्षु अधिकारियों से उनकी सेवा और कर्तव्य की भावना को कभी कम ना होने देने के लिए कहते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “देश को सुधार, प्रदर्शन और परिवर्तन के आदर्श वाक्य को अगले स्तर पर ले जाना है।”

उन्होंने कहा, “जब आप मैदान में जाते हैं तो ऐसा निर्णय लेने में संकोच नहीं करना चाहिए, जो आपको लगता है कि सामाजिक सीढ़ी के सबसे निचले पायदान पर खड़े व्यक्ति के जीवन में परिवर्तन ला सकता है।”

अपने संबोधन से पूर्व प्रधानमंत्री ने अकादमी में एक नए खेल परिसर का उद्घाटन किया। इसके अतिरिक्त, एक नया हैपी वैली आउटडोर कॉम्प्लेक्स देश को समर्पित किया।