समाचार
एनसीआरटीसी ने आरआरटीएस गलियारे के संचालन के लिए डीबी इंडिया से मिलाया हाथ

82 किलोमीटर लंबे दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस गलियारे के व्यापक संचालन और रखरखाव को ध्यान में रखते हुए एनसीआरटीसी ने यात्रियों को गुणवत्तापूर्ण सेवाएँ प्रदान करने के लिए डायचे बान इंजीनियरिंग एंड कंसल्टेंसी इंडिया (डीबी इंडिया) के साथ हाथ मिलाया है।

डीबी इंडिया जर्मनी की राष्ट्रीय रेलवे कंपनी डायचे बान एजी की सहायक कंपनी है। एनसीआरटीसी और डीबी इंडिया के बीच 12 वर्ष की अवधि के लिए समझौते पर हस्ताक्षर हुए।

एनसीआरटीसी के कदम में घरेलू रेल परियोजना में निजी क्षेत्र की भागीदारी सुनिश्चित हो गई है। एनसीआरटीसी ने साफ किया कि समझौते को सरकार की मेट्रो रेल नीति-2017 के उद्देश्यों और प्रावधानों का पालन करते हुए किया गया है।

इस अवसर पर एनसीआरटीसी के एमडी विनय कुमार सिंह ने कहा, “आरआरटीएस एक पूंजी-गहन परियोजना है, जहाँ यात्रियों की सुरक्षा और सुविधा से समझौता किए बिना दीर्घकालिक स्थिरता सर्वोपरि है।”

उन्होंने आगे कहा, “मुझे यकीन है कि करार से यात्रियों की सुरक्षा और सहूलियत से समझौता किए बगैर लंबे समय तक रेल संचालन के ऊँचे मानकों को प्राप्त किया जा सकेगा। इस पहल से उन्नत तकनीकी के साथ सहयोगी की विशेषज्ञों और अनुभव का उपयोग कर यात्रियों को गुणवत्तापूर्ण सेवाएँ प्रदान करने के साथ वर्षों तक प्रबंधकीय क्षमता प्राप्त होगी।

उन्होंने आगे कहा, “इससे सर्वोत्तम अंतर-राष्ट्रीय कार्य पद्धतियों और प्रबंधकीय सेवाओं के हस्तांतरण का मार्ग प्रशस्त होगा। ऐसे में रेल क्षेत्र में प्रभावी लागत को कम करने और प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा मिलेगा। मुझे विश्वास है कि एनसीआरटीसी की इस अग्रणी पहल से पूरे क्षेत्र में परिवर्तन आएगा और यह क्षेत्र को लागत प्रभावी और प्रतिस्पर्धी बना देगा, जिससे हमारे प्रधानमंत्री के नए भारत के सपने को साकार किया जा सकेगा।”