समाचार
मुंबई ने वर्ष 2050 तक शून्य कार्बन उत्सर्जन योजना की घोषणा की- रिपोर्ट

मुंबई ने 2050 तक कार्बन उत्सर्जन को शून्य करने की योजना की घोषणा की है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, महानगर ने 1.9 करोड़ लोगों की कुल जनसंख्या के लिए हवा, पानी, अपशिष्ट, हरित स्थान और परिवहन के अपने प्रबंधन में व्यापक परिवर्तन का प्रस्ताव दिया है।

कथित तौर पर यदि समय रहते आवश्यक हस्तक्षेप नहीं किए गए तो जलवायु परिवर्तन के प्रभावों से अगले 50 वर्षों में देश को 35 खरब डॉलर के करीब खर्च करना पड़ सकता है।

मुंबई की योजनाएँ छह अलग-अलग डोमेन में विभाजित हैं। इसमें अधिक चलने योग्य मार्ग, सार्वजनिक परिवहन का विद्युतीकरण, छत वाली सौर क्षमता और अन्य समान सुविधाएँ बनाने में संभावित निवेश सम्मिलित हैं।

ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट में राज्य के पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे के हवाले से कहा गया, “हमारे पास अब अधिक समय नहीं है। नीतियाँ वास्तव में इस तरह के निवेश के लिए दरवाजे खोल रही हैं।”

शहर ने 2023 तक कुल 1.7 अरब डॉलर की लागत से 2100 इलेक्ट्रिक बसें खरीदने का लक्ष्य रखा है। 3400 मेगावॉट विद्युत की खपत को अक्षय ऊर्जा स्रोतों में परिवर्तित करने की भी योजना है।