समाचार
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लॉन्च किया जल जीवन अभियान ऐप और राष्ट्रीय जल जीवन कोष

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार (2 अक्टूबर) को जल जीवन अभियान ऐप और राष्ट्रीय जल जीवन कोष लॉन्च किया। यह ऐप हितधारकों के बीच जागरूकता बढ़ाने और अभियान के तहत योजनाओं की अधिक पारदर्शिता व जवाबदेही में सहायता करता है।

राष्ट्रीय जल जीवन कोष के माध्यम से कोई भी व्यक्ति, संस्था, निगम या परोपकारी चाहे वह भारत में हो या विदेश में हर गाँव के घर, आंगनबाड़ी केंद्र, आश्रम शाला और अन्य सार्वजनिक संस्थानों में नल के पानी का कनेक्शन प्रदान करवाने में सहायता कर सकता है।

प्रधानमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से ग्राम पंचायतों व पानी समितियों या ग्राम जल व स्वच्छता समितियों (वीडब्ल्यूएससी) से भी वार्ता की। सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, “जल जीवन मिशन एक गाँव संचालित-महिला संचालित आंदोलन है।”

उन्होंने ग्राम स्वराज के लिए गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान किए गए उपायों का स्मरण किया। उदाहरण के तौर पर ओडीएफ गाँवों के लिए निर्मल गाँव, गाँवों में पुरानी बावड़ियों व कुओं को पुनर्जीवित करने के लिए जल मंदिर अभियान, गाँवों में 24 घंटे बिजली के लिए ज्योतिग्राम, गाँवों में सौहार्द के लिए तीर्थ ग्राम, गाँवों में ब्रॉडबैंड के लिए ई-ग्राम।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “स्वतंत्रता से 2019 तक देश में केवल तीन करोड़ घरों में ही नल का पानी उपलब्ध है। उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि 2019 से जल जीवन मिशन ने 5 करोड़ घरों को पानी के कनेक्शन से जोड़ा है। गत सात दशकों में जितना काम हुआ है, उससे कहीं ज्यादा काम सिर्फ दो वर्ष में किया गया है।”

उन्होंने कहा, “आज देश के लगभग 80 जिलों के लगभग 1.25 लाख गाँवों के हर घर में पानी पहुँच रहा है। आकांक्षापूर्ण जिलों में नल के कनेक्शनों की संख्या 31 लाख से बढ़कर 1.16 करोड़ हो गई है।”