समाचार
मेक इन इंडिया- सरकार की कई रक्षा आयात परियोजनाओं को स्थगित करने की योजना

रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता की दिशा में और मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने हेतु केंद्र सरकार कथित तौर पर खरीद (वैश्विक) मार्ग के माध्यम से प्राप्त की जा रही कुछ प्रमुख रक्षा आयात परियोजनाओं को स्थगित करने की योजना बना रही है।

यह विकास तब आया, जब सरकार नई रक्षा उत्पादन और निर्यात संवर्धन नीति पर काम कर रही है, जो घरेलू रक्षा उत्पादन को बढ़ावा देने के साथ मित्र देशों को रक्षा उत्पादों के निर्यात के लिए आगे का मार्ग तय करेगी।

एएनआई ने सरकारी सूत्रों के हवाले से कहा कि रक्षा मंत्रालय की एक उच्च स्तरीय वर्चुअल बैठक बुधवार को होगी, जिसमें खरीद (वैश्विक) श्रेणी के तहत आयात परियोजनाओं की समीक्षा की जाएगी और सरकार द्वारा उन्हें रद्द करने या रोके जाने की संभावना है।

बाय ग्लोबल श्रेणी के अंतर्गत भारतीय सशस्त्र बल विदेशी विक्रेताओं से रक्षा वस्तुओं का पूरी तरह से आयात कर सकते हैं। हालाँकि, एएनआई ने सूत्रों का हवाला देते हुए कहा कि अब पहली प्राथमिकता भारतीय विकसित, डिजाइन और निर्मित (आईडीडीएम) उत्पादों के अधिग्रहण को दी जाएगी।

मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने के लिए स्थानीय निर्माता कई हजार करोड़ की परियोजनाओं के अनुबंध प्राप्त करने में सक्षम होंगे।