समाचार
मैनकाइंड फार्मा सबसे सस्ती कोविड दवा लॉन्च करेगी, इस सप्ताह बाज़ार में आ सकती है

मैनकाइंड फार्मा इस सप्ताह सबसे सस्ती मॉलनुपिरेविर नामक कोविड-19 एंटी वायरल दवा लॉन्च करने को तैयार है, जिसका मूल्य 35 रुपये प्रति कैप्सूल होगा। यह जानकारी फार्मा कंपनी के अध्यक्ष आरसी जुनैजा ने दी।

दि इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, मैनकाइंड फार्मा के अध्यक्ष ने बताया कि मोलुलाइफ (ब्रांड का नाम) के पूरे उपचार पर 1,400 रुपये खर्च होने की अपेक्षा है। इस सप्ताह बाज़ार में यह आ सकती है।

मॉलनुपिरेविर की अनुशंसित खुराक 5 दिनों के लिए दिन में दो बार 800 मिलीग्राम है। एक मरीज को 200 मिलीग्राम खुराक के रूप में 40 कैप्सूल लेने की जरूरत है। इस दवा का निर्माण टोरेंट, सिप्ला, सन फार्मा, डॉ रेड्डीज़, नैटको, माइलान और हेटेरो सहित 13 भारतीय दवा कंपनियाँ करेंगी।

इसको आपातकालीन स्थिति में वयस्क रोगियों के उपचार के लिए प्रतिबंधित उपयोग हेतु अनुमोदित किया गया है, जिनमें कोविड-19 का अधिक खतरा है।

एमएसडी और रिजबैक बायोथेरोप्‍यूटिक्‍स द्वारा विकसित मॉलनुपिरेविर को यूके मेडिसिन्स एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी (एमएचआरए) और यूएसएफडीए द्वारा हल्के से मध्यम कोविड-19 के उपचार के लिए अनुमोदित किया जाता है, ताकि बीमारी के गंभीर अवस्था में पहुँचने का खतरा कम हो सके।

इस संबंध में जानकारी रखने वाले लोगों ने बताया कि आने वाले दिनों में सिप्ला, सन फार्मा और डॉ रेड्डीज़ लैबोरेट्रीज भी मॉलनुपिरेविर कैप्सूल लॉन्च करेगी। अन्य कंपनियों द्वारा पूर्ण उपचार के लिए दवा की कीमत 2,000-3,000 रुपये के मध्य होने की अपेक्षा है।

अधिकतर कंपनियों ने भारत और 100 से अधिक निम्न व मध्यम आय वाले देशों में मॉलनुपिरेविर के निर्माण और आपूर्ति के लिए मर्क शार्प डोहमे (एमएसडी) के साथ एक गैर-अनन्य स्वैच्छिक लाइसेंसिंग समझौता किया था। सिप्ला की योजना सिपमोल्नु ब्रांड के तहत मॉलनुपिरेविर लॉन्च करने की है। डॉ रेड्डीज़ ने कहा कि वह शीघ्र देश में मोलफ्लू ब्रांड नाम के तहत अपनी मॉलनुपिरेविर 200एमजी कैप्सूल लॉन्च करेगी।