समाचार
महिंद्रा डिफेंस को एकीकृत पनडुब्बी रोधी युद्ध रक्षा सूट हेतु 1350 करोड़ का अनुबंध मिला

महिंद्रा डिफेंस सिस्टम्स लिमिटेड (एमडीएस) को भारतीय नौसेना के आधुनिक युद्धपोतों के लिए एकीकृत पनडुब्बी रोधी युद्ध रक्षा सूट (आईएडीएस) के निर्माण हेतु रक्षा मंत्रालय की ओर से 1349.95 करोड़ रुपये का एक बड़ा अनुबंध प्राप्त हुआ है।

कंपनी ने शुक्रवार (27 अगस्त) को बताया कि रक्षा मंत्रालय की ओर से खुली निविदा के माध्यम से भारतीय कंपनियों से प्रतिस्पर्धी बोलियाँ आमंत्रित की गई थीं। इसमें क्षमता साबित करने के लिए प्रणाली को समुद्र में विस्तृत परीक्षणों के माध्यम से जाँचा गया था।

आईएडीएस एक महंगा पानी के अंदर का उपकरण है, जो नवीनतम तकनीक का उपयोग करता है। इसे पानी के नीचे के खतरों का पता लगाने और युद्धपोतों की रक्षा करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह एक बहुमुखी प्रणाली है, जो छोटे, मध्यम और बड़े सभी प्रकार के युद्धपोतों से संचालन में सक्षम है।

कंपनी का कहना है कि पानी में सेंसर की जटिल व्यूह रचना निगरानी करती है और सिग्नल प्रोसेसिंग और विश्लेषण के लिए इनपुट प्रदान करती है। युद्धपोत तब पानी के नीचे के खतरों को बेअसर करने के तरीकों का उपयोग करता है।

कंपनी के अनुसार, यह उन्नत प्रौद्योगिकी प्रणाली भारतीय नौसेना के लिए एक स्वदेशी कंपनी द्वारा विकसित की जा रही अपनी तरह की पहली प्रणाली है। महिंद्रा डिफेंस भारतीय नौसेना के युद्धपोतों के लिए 14 आईएडीएस सिस्टम की आपूर्ति करेगी।