समाचार
महाराष्ट्र की ठाकरे सरकार अब राजीव गांधी के नाम से करेगी आईटी संस्थानों को पुरस्कृत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा हाल ही में खेल रत्न पुरस्कार से राजीव गांधी का नाम हटाकर मेजर ध्यानचंद रखने के बाद अब महाराष्ट्र की महा विकास अघाड़ी सरकार ने निर्णय लेते हुए सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र में बेहतरीन काम करने वाले संस्थानों को राजीव गांधी के नाम पर पुरस्कार देने की घोषणा की है।

टाइम्स नाऊ नवभारत की रिपोर्ट के अनुसार, महाराष्ट्र के आईटी मंत्री सतेज पाटील ने जानकारी दी कि पहली बार 20 अक्टूबर के बाद यह पुरस्कार हर वर्ष 20 अगस्त को दिया जाएगा। यह पुरस्कार भारत में आईटी क्षेत्र को प्रोत्साहन देने में योगदान को सम्मानित करने के लिए है।

उन्होंने बताया कि पुरस्कार के लिए संगठनों के चयन की रूपरेखा निश्चित करने को महाराष्ट्र की सूचना एवं प्रौद्योगिकी निगम नोडल एजेंसी के रूप में काम करेगी।

हालाँकि, मंत्री सतेज पाटील इस निर्णय को राज्य सरकार द्वारा करीब एक माह पहले ही निश्चित करना बता रहे हैं। फिर भी अनुमान लगाए जा रहे हैं कि मोदी सरकार द्वारा खेल रत्न पुरस्कार के नाम परिवर्तन के बाद इसे पुरस्कार राजनीति के रूप में हवा देने का प्रयास किया जा रहा है।

बता दें कि 6 अगस्त को राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार का नाम परिवर्तित करके उसे हॉकी के प्रसिद्ध खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद के नाम पर रखने का निर्णय हुआ था। प्रधानमंत्री ने कहा था कि मेजर ध्यानचंद के नाम पर खेल रत्न पुरस्कार का नाम रखने के लिए लोगों से अनुरोध प्राप्त हो रहे हैं। मैं उनकी भावना का सम्मान करता हूँ और अब इसे मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार कहा जाएगा।