समाचार
भिवंडी में तनावपूर्ण स्थिति पैदा करने पर नुपुर शर्मा के 200 समर्थकों पर मामले दर्ज

भिवंडी पुलिस ने पूर्व भाजपा पदाधिकारी नूपुर शर्मा के समर्थकों के विरुद्ध कथित रूप से अवैध रूप से एकत्रित होने के आरोप में 200 से अधिक लोगों के विरुद्ध दो मामले दर्ज किए हैं।

अधिकारियों ने कहा कि 12 जून को महाराष्ट्र के भिवंडी कस्बे में एक जगह पर कई लोग एकत्रित हो गए थे, जिससे तनावपूर्ण स्थिति पैदा हो गई थी।

पुलिस ने कहा कि उनमें से कुछ ने दो व्यक्तियों मुकेश बाबूराम चव्हाण और साद अंसारी के घरों तक मार्च किया और नुपुर शर्मा को समर्थन दिखाते हुए सोशल मीडिया पर उनके पोस्ट का विरोध भी किया।

उन्होंने कहा कि कुछ प्रदर्शनकारियों ने अंसारी को कथित तौर पर मारा भी था। चव्हाण और अंसारी को बाद में हिरासत में ले लिया गया था।

अधिकारियों ने बताया कि 13 जून को भिवंडी में भोईवाड़ा पुलिस ने 150 लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज किया और नरपोली पुलिस ने करीब 65 लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज किया था।

उन्होंने कहा कि भारतीय दंड संहिता की धारा 141,143 (गैरकानूनी जमावड़ा), 322, 323 (स्वेच्छा से चोट पहुँचाना) 504 (शांति भंग करने के लिए जानबूझकर अपमान करना) और 506 (आपराधिक धमकी) के तहत मामले दर्ज किए थे।

पुलिस ने बताया कि इस सिलसिले में अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

12 जून को कस्बे में तनाव के बाद भिवंडी के जोन-3 के पुलिस उपायुक्त योगेश चव्हाण ने नागरिकों से झूठी खबरों पर विश्वास न करने और पुलिस को शांति व  कानून व्यवस्था बनाए रखने में सहायता करने की अपील की थी।

नारपोली पुलिस ने वॉट्सैप समूहों के एडमिनों से भी सोशल मीडिया मंच पर आपत्तिजनक पोस्ट किसी को भी भेजने से बचने को कहा था।