समाचार
खरगोन हिंसा के प्रभावितों को शिवराज सरकार ने ₹1 करोड़ की सहायता आवंटित की

मध्य प्रदेश सरकार ने खरगोन शहर में हाल ही में हुई सांप्रदायिक हिंसा से प्रभावित लोगों को राहत देने के लिए एक करोड़ रुपये आवंटित किए। एक अधिकारी ने मंगलवार को जानकारी दी कि जिला प्रशासन द्वारा किए गए सर्वेक्षण के अनुसार वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।

अधिकारी ने बताया कि इस प्रथा को जारी रखते हुए खरगोन प्रशासन ने मंगलवार की सुबह चार घंटे के लिए कर्फ्यू में ढील दी, जिसे रविवार रात रामनवमी समारोह के दौरान हिंसा के बाद शहर में लगाया गया था।

स्थानीय प्रशासन 14 अप्रैल से हर दिन चार घंटे कर्फ्यू में ढील दे रहा है। खरगोन के जिला कलेक्टर अनुग्रह पी ने बताया, “प्रशासन ने एक सर्वेक्षण किया था और राज्य सरकार को एक रिपोर्ट भेजी थी, जिसने एक करोड़ रुपये आवंटित किए हैं।”

इस सर्वेक्षण के आधार पर उन प्रभावित लोगों और वेंडरों को तत्काल वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी, जिनके घर, दुकानें, वाहन आदि हिंसा में क्षतिग्रस्त हुए।

खरगोन शहर में मंगलवार को सुबह 8 बजे से दोपहर 12 बजे के मध्य कर्फ्यू में ढील दिए जाने के बाद लोग दूध, सब्जियाँ, सामान और दवाइयाँ खरीदने के लिए निकल पड़े।

सरकार के आदेश के अनुसार, कर्फ्यू में ढील के दौरान सिर्फ दूध, सब्जी और दवा बेचने वाली दुकानों को ही खुले रहने की अनुमति दी गई। इस दौरान लोग अपने पड़ोस की दुकानों से आवश्यक सामान खरीद सकते हैं।

हालाँकि, पेट्रोल पंप बंद रहेंगे और सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के तहत उचित मूल्य की दुकानों पर मिट्टी के तेल की बिक्री निलंबित रहेगी। अधिकारियों ने बताया कि शाम को भी कर्फ्यू में और ढील दी जा सकती है।