समाचार
भाजपा-आरएसएस कार्यकर्ता की एसडीपीआई को जानकारी देने वाला पुलिसकर्मी निलंबित

केरल पुलिस ने मंगलवार (28 दिसंबर) को करीमन्नूर पुलिस स्टेशन से जुड़े सिविल पुलिस अधिकारी (सीपीओ) अनस पीके को एक आंतरिक जाँच के बाद निलंबित कर दिया। उन्होंने इस्लामी संगठन एसडीपीआई और पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के कार्यकर्ताओं को आरएसएस-भाजपा नेताओं का विवरण दिया था।

एक विस्तृत पुलिस जाँच में पता चला कि एक आरोपी एसडीपीआई कार्यकर्ता और सीपीओ अनस 11 वर्ष से अधिक समय से घनिष्ठ मित्र थे। कहा जाता है कि अनस ने पुलिस रिकॉर्ड से अपने मित्र को जानकारी साझा की थी।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, एक आंतरिक जाँच के बाद केरल पुलिस ने मंगलवार को करीमन्नूर पुलिस स्टेशन से जुड़े सीपीओ अनस पीके को निलंबित कर दिया था। जाँच में पाया गया था कि उन्होंने इस्लामी संगठन एसडीपीआई और पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के कार्यकर्ताओं को आरएसएस-भाजपा नेताओं का विवरण लीक किया था।

इडुक्की जिले के थोडुपुझा में मधुसूदन नामक एक बस कंडक्टर पर नृशंस हमले के एक आरोपी की संपर्क सूची में अनस का मोबाइल नंबर मिला था। मधुसूदन पर हमला तब किया गया, जब वह अपने बच्चों के साथ यात्रा कर रहे थे, तब उनके वाहन को आकर रोक दिया गया था। कहा जाता है कि मुहम्मद के एक कार्टून को साझा करने पर उन्हें इस्लामी संगठन के क्रोध का सामना करना पड़ा था, जिसे मुसलमान अपना पैगंबर मानते हैं।

हमले के मामले में 2 दिसंबर को आधा दर्जन एसडीपीआई कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया था। सीपीओ को इडुक्की मुख्यालय में स्थानांतरित कर दिया गया। हालाँकि, विस्तृत जाँच के बाद अब उन्हें पुलिस बल से निलंबित कर दिया गया।