समाचार
ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वेक्षण के आदेश पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने लगाई रोक

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने गुरुवार (9 सितंबर) को वाराणसी की न्यायालय के आदेश पर रोक लगा दी, जिसने विवादित काशी विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के व्यापक पुरातात्विक भौतिक सर्वेक्षण के लिए कहा था।

बार एंड बेंच की रिपोर्ट के अनुसार, न्यायमूर्ति प्रकाश पाडिया की एकल न्यायाधीश पीठ ने कहा कि निचली अदालत के समक्ष कार्यवाही प्रथम दृष्टया कानून की दृष्टि से गलत थी क्योंकि उच्च न्यायालय में पहले से ही विवाद से संबंधित एक मामला लंबित था और उसी पर अपना निर्णय सुरक्षित रख लिया गया था।

यह आदेश उत्तर प्रदेश सुन्नी वक्फ बोर्ड और अंजुमन इंतजामिया मस्जिद वाराणसी द्वारा वाराणसी न्यायालय के आदेश के विरुद्ध दायर याचिकाओं पर आया है।

इस वर्ष की शुरुआत में 8 अप्रैल को वाराणसी न्यायालय ने एएसआई सर्वेक्षण की अनुमति देने का आदेश पारित किया था। ज्ञानपीठ मस्जिद जो काशी विश्वनाथ मंदिर से जुड़ी थी, उसको मुगल सम्राट औरंगजेब द्वारा 1669 में एक हिंदू मंदिर को कथित रूप से ध्वस्त करने के बाद बनाई गई थी।

बता दें कि वाराणसी की न्यायालय ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के महानिदेशक को काशी विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का व्यापक पुरातात्विक भौतिक सर्वेक्षण कराने का आदेश दिया और कहा था कि विवाद का मामला हमारे गहरे इतिहास से संबंधित है।