समाचार
कानपुर हिंसा में 36 गिरफ्तार, मुख्यमंत्री योगी ने कहा, “दंगाइयों की संपत्ति जब्त होगी”

उत्तर प्रदेश के कानपुर में शुक्रवार (3 जून) को हुई हिंसा के बाद पुलिस ने कम से कम 36 लोगों को गिरफ्तार किया।

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजी) कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने कहा कि हिंसा तब भड़क गई, जब एक समूह ने जुमे की नमाज़ के बाद मुस्लिम समूहों द्वारा बाज़ारों को जबरन बंद करने का विरोध करने का प्रयास किया।

उन्होंने कहा, “पुलिस घटना के वीडियो फुटेज के आधार पर दंगाइयों के विरुद्ध कार्रवाई करेगी। साजिशकर्ताओं के विरुद्ध गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई होगी और उनकी संपत्ति को जब्त या ध्वस्त किया जाएगा।”

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) के साथ पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) और राज्य के मुख्य सचिव को निर्देश दिया कि तनाव उत्पन्न करने वालों के विरुद्ध गैंगस्टर और राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (एनएसए) लगाया जाए।

उन्होंने कथित तौर पर अधिकारियों को दोषियों की संपत्ति को जब्त करने और यदि आवश्यक हो तो बुलडोज़र का उपयोग करने के भी निर्देश जारी किए।

कानपुर के बेकनगंज क्षेत्र में हुई हिंसा में 30 लोग और 13 पुलिसकर्मी घायल हो गए। हिंसा में कई वाहन क्षतिग्रस्त हो गए और दुकानों को लूट लिया गया। इसके बाद कानपुर में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है।

कानपुर के पुलिस आयुक्त विजय मीणा ने कहा, “स्थिति नियंत्रण में है और संवेदनशील स्थानों पर पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है।”

एएनआई के हवाले से विजय मीणा ने कहा, “तीन प्राथमिकी दर्ज की गई हैं और 36 लोगों की पहचान की गई है। उपद्रवियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी।”

उन्होंने कहा, “हमने पुलिस कर्मियों को उनके संबंधित स्थानों पर सतर्क रहने के लिए सूचित किया है। हम जनता के बीच विश्वास पैदा करने के लिए रूट मार्च और गश्त भी कर रहे हैं। स्थिति नियंत्रण में है। यातायात नियमित रूप से काम कर रहा है और कहीं भी कोई समस्या नहीं है।”