समाचार
उदयपुर में हिंदू दर्जी के अंतिम संस्कार में उमड़ी भीड़, ‘कन्हैया लाल अमर रहे’ के लगे नारे

राजस्थान के उदयपुर में मंगलवार को हिंदू दर्जी कन्हैया लाल की दो मुस्लिम हमलावरों ने दुकान में घुसने के बाद गला काटकर हत्या कर दी थी। इसको लेकर शहर के कुछ हिस्सों में कर्फ्यू लगा दिया गया। इसके बावजूद बुधवार को बड़ी संख्या में लोगों की उपस्थिति में पीड़ित का अंतिम संस्कार किया गया।

बता दें कि हिंदू दर्जी की हत्या सिर्फ इसलिए की गई थी क्योंकि उन्होंने सोशल मीडिया पर भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नुपुर शर्मा का समर्थन कर दिया था।

अधिकारियों ने बताया कि अंतिम संस्कार के दौरान कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था। अंतिम संस्कार का जुलूस शांतिपूर्ण तरीके से निकाला गया।

इस घटना से उदयपुर में हिंसा के छिटपुट मामले सामने आए और शहर के सात थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया गया।

अंतिम संस्कार का जुलूस सेक्टर-14 स्थित कन्हैया लाल के आवास से शुरू हुआ और अशोक नगर स्थित अंतिम संस्कार के स्थल तक पहुँचा। जुलूस में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए और मोटरसाइकिल व कारों पर अंतिम संस्कार वाले स्थान पर पहुँचे। इस दौरान कुछ लोगों ने आरोपियों के लिए मौत के दंड की मांग करते हुए नारे भी लगाए।

अंतिम संस्कार के दौरान पीड़ित की चिता जलते ही लोगों ने ‘कन्हैया लाल अमर रहे’ के नारे भी लगाए गए।

अधिकारियों ने बताया कि घटना के एक दिन बाद बुधवार को शहर के सात थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया गया और राज्य के सभी 33 जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवाएँ बंद कर दी गई हैं।