शिक्षा-नौकरी
छात्रवृत्तियों के लिए एचआरडी मंत्रालय ने दिया 250 करोड़ रुपए का विशेष अनुदान

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) और अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एचआरडी) के विशेष अनुदान की सहायता से अटकी हुई छात्रवृत्तियों को बहाल कर दिया है, इकोनॉमिक टाइम्स  ने रिपोर्ट किया।

बहुधवार (26 दिसंबर) को एचआरडी मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इस बात की पुष्टि की कि मंत्रालय द्वारा 250 करोड़ रुपए की राशि दी गई है जिससे अटकी हुई छात्रवृत्तियों को लाभार्थियों तक पहुँचाया जा सके। उन्होंने यह भी कहा कि अनुसंधान छात्रों की वेतन वृद्धि की माँग के लिए भी सकारात्मक कदम उठाए जाएँगे।

“लगातार शिकायतें आ रही थीं कि छात्रों को समय पर छात्रवृत्ति नहीं मिल पा रही है। हमने विशेष अनुदान दिया और पुराना हिसाब भी चुकता कर दिया। अब लाभार्थियों को समय पर छात्रवृत्ति मिल जाया करेगी।”, मंत्री ने कहा।

कुछ शोध छात्र बुधवार सुबह जावड़ेकर से मिले थे और वेतन वृद्धि की माँग रखी थी। “ढाई लाख छात्रों की छात्रवृत्ति के लिए सरकार साल में 4,000 करोड़ रुपए खर्च करती है। कुछ राशि जेआरएफ में, कुछ मेधावी छात्रों के लिए, कुछ जम्मू-कश्मीर छात्रवृत्ति, गेट छात्रवृत्ति और इशान उदय छात्रवृत्ति के लिए खर्च की जाती है।”, जावड़ेकर ने बताया।