समाचार
जापानी प्रधानमंत्री पहली भारत यात्रा में 42 अरब डॉलर निवेश की घोषणा को तैयार- रिपोर्ट

जापानी प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा भारत की अपनी पहली यात्रा के दौरान आगामी 5 वर्षों में देश में 5 खरब येन या 42 अरब डॉलर का निवेश करने की योजना की घोषणा करने के लिए तैयार हैं।

निक्केई एशिया की रिपोर्ट के अनुसार, 14वें भारत-जापान वार्षिक शिखर सम्मेलन के लिए किशिदा 19-20 मार्च तक नई दिल्ली के आधिकारिक दौरे पर होंगे।

शिखर सम्मेलन के दौरान जापानी प्रधानमंत्री के सार्वजनिक-निजी फंडिंग का खुलासा करने की भी संभावना है।

निक्केई एशिया ने बताया कि अपनी दो दिवसीय भारत यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बैठक के दौरान किशिदा के लगभग 300 अरब येन के ऋण को स्वीकृति देने की भी अपेक्षा है।

इसके अतिरिक्त, कार्बन कटौती से संबंधित एक ऊर्जा सहयोग दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए जाने की अपेक्षा है।

जापानी प्रधानमंत्री की पाँच खरब येन योजना 5 वर्षों में निवेश और वित्तपोषण में 3.5 खरब येन से आगे निकल गई है, जिसकी घोषणा तत्कालीन जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने अपनी 2014 की भारत यात्रा के दौरान की थी।

विदेश मंत्रालय के मुताबिक, शिखर सम्मेलन में दोनों नेताओं की पहली भेंट होगी। पिछला भारत-जापान वार्षिक शिखर सम्मेलन अक्टूबर 2018 में टोक्यो में हुआ था।

विदेश मंत्रालय ने कहा कि शिखर सम्मेलन दोनों पक्षों को विविध क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग की समीक्षा करने और उन्हें मजबूत करने के साथ पारस्परिक हित के क्षेत्रीय व वैश्विक मुद्दों पर विचारों का आदान-प्रदान करने का अवसर देगा। इससे हिंद-प्रशांत क्षेत्र और उसके बाहर शांति, स्थिरता और समृद्धि के लिए अपनी साझेदारी को आगे बढ़ाया जा सकेगा।