समाचार
उत्तराखंड में लगभग 50% ग्रामीण परिवारों को घरों में नल का पानी मिल रहा- सरकार

केंद्र सरकार ने मंगलवार को जानकारी दी कि उत्तराखंड में लगभग 50 प्रतिशत ग्रामीण परिवारों को उनके घरों में नल का पानी मिल रहा है।

जल शक्ति मंत्रालय की विज्ञप्ति के अनुसार, गत एक माह में उत्तराखंड के 49,298 परिवारों को लाभान्वित करने वाले 6 जिलों में फैले 706 गाँवों के लिए 549.60 करोड़ रुपये की पेयजल आपूर्ति योजना को स्वीकृति दी गई।

मंत्रालय ने कहा, “आज की तिथि में राज्य के 15.18 लाख ग्रामीण परिवारों में से 7.49 लाख (49.39 प्रतिशत) को उनके घरों में नल का पानी मिल रहा है। 2021-22 में राज्य ने 2.64 लाख घरों को नल के पानी के कनेक्शन प्रदान करने की योजना बनाई है।”

उत्तराखंड में राज्य स्तरीय योजना स्वीकृति समिति (एसएलएसएससी) ने 13 दिसंबर 2021 को हुई बैठक में जल जीवन मिशन के तहत 56.7 करोड़ रुपये की आपूर्ति योजनाओं को स्वीकृति दी।

जल जीवन मिशन के तहत ग्रामीण घरों में नल के पानी की आपूर्ति का प्रावधान करने के लिए की जाने वाली योजनाओं पर विचार और अनुमोदन हेतु राज्यस्तरीय योजना स्वीकृति समिति (एसएलएसएससी) के गठन का प्रावधान है।

जेजेएम के तहत केंद्र ने 2021-22 के दौरान उत्तराखंड को 360.95 करोड़ रुपये का अनुदान सहायता जारी की।

मंत्रालय ने कहा, “2019-20 में केंद्र ने जल जीवन मिशन के कार्यान्वयन के लिए 170.53 करोड़ रुपये आवंटित किए थे। इस वर्ष केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने 1,443.80 करोड़ रुपये आवंटित किए, जो गत वर्ष की तुलना में चार गुना हैं।”

जल शक्ति मंत्री ने चार गुना वृद्धि को स्वीकृति देते हुए दिसंबर 2022 तक हर ग्रामीण घर में नल के पानी की आपूर्ति का प्रावधान करने के लिए राज्य को पूर्ण सहायता का भरोसा दिया।

मंत्रालय ने कहा, “27 महीनों में कोविड-19 महामारी और लॉकडाउन के दौरान व्यवधानों के बावजूद राज्य ने 6.19 लाख (40.80 प्रतिशत) घरों में नल के पानी का कनेक्शन प्रदान किया है।”