समाचार
इसरो पीएसएलवी-सी52 के 14 फरवरी को प्रक्षेपण के साथ 2022 का आरंभ करेगा

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) का 2022 का पहला लॉन्च अभियान 14 फरवरी के लिए निर्धारित किया गया है, जिसमें पीएसएलवी-सी52 रॉकेट से एक पृथ्वी अवलोकन उपग्रह (ईओएस-04) लॉन्च करेगा।

बेंगलुरु मुख्यालय वाली अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी-सी52) का लॉन्च सोमवार को श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के पहले लॉन्च पैड से सुबह 5:59 बजे निर्धारित है।

इसरो ने जानकारी दी कि पीएसएलवी-सी52 को 1710 किलोग्राम वजन वाले ईओएस-04 की कक्षा में 529 किमी की सूर्य तुल्यकालिक ध्रुवीय कक्षा में स्थापित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

पीएसएलवी-सी52 अभियान दो छोटे उपग्रहों को सह-यात्रियों के रूप में भी ले जाएगा।

इसमें पहला बोल्डर के कोलोराडो विश्वविद्यालय में वायुमंडलीय एवं अंतरिक्ष भौतिकी की प्रयोगशाला के सहयोग से भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईएसटी) के विद्यार्थियों द्वारा बनाया गया इंस्पायर सैटेलाइट-1 और दूसरा इसरो के एक प्रौद्योगिकी प्रदर्शक उपग्रह (आईएनएस-2टीडी), जो भारत-भूटान का संयुक्त उपग्रह (आईएनएस-2बी) है।

ईओएस-04 एक राडार इमेजिंग उपग्रह है, जिसे कृषि, वन निर्माण और वृक्षारोपण, मिट्टी की नमी व जल विज्ञान और बाढ़ मानचित्रण जैसे अनुप्रयोगों के लिए सभी मौसम की स्थिति में उच्च गुणवत्ता वाली छवियाँ प्रदान करने के लिए बनाया गया है।

इसरो ने कहा, “उपग्रह के प्रक्षेपण की उल्टी गिनती 25 घंटे 30 मिनट पहले शुरू की जाएगी, जबकि उपग्रह को लॉन्च करने की प्रक्रिया सुबह 4.29 बजे आरंभ होगी।”