समाचार
ईरान के विदेश मंत्री अफगान थिएटर में सहयोग बढ़ाने के लिए भारत यात्रा पर आने वाले हैं

ईरान के नए विदेश मंत्री हुसैन आमिर अब्दुल्लाहियान आने वाले दिनों में भारत की यात्रा पर आने वाले हैं। इसका उद्देश्य दो दशक के अंतराल के उपरांत अफगानिस्तान में तालिबान बलों की वापसी के बाद आपसी प्रगाढ़ता, समन्वय और अफगान थिएटर में सहयोग बढ़ाने के विचारों को साझा करना होगा।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, इस यात्रा का महत्व इसलिए बढ़ जाता है क्योंकि अफगानिस्तान में भारत और ईरान दोनों का बहुत कुछ दाँव पर लगा है। अभी गत सप्ताह ही ईरान के नए राष्ट्रपति इब्राहिम रायसी ने अफगानिस्तान में चुनाव कराए जाने का आह्वान किया था। पंजशीर घाटी में राष्ट्रीय प्रतिरोध मोर्चे के विरुद्ध तालिबान को दिए गए समर्थन को लेकर ईरान ने पाकिस्तान पर भी निशाना साधा है।

यह गौर किया जाना चाहिए कि इस माह की शुरुआत में अब्दुल्लाहियान ने केंद्रीय विदेश मंत्री डॉ एस जयशंकर के साथ अपनी पहली फोन पर वार्ता की थी। तब दोनों ने अफगानिस्तान की स्थिति और चाबहार बंदरगाह परियोजना पर चर्चा की थी। उस समय दोनों पक्षों ने अफगानिस्तान पर परामर्श जारी रखने का निर्णय लिया था।

यह भी ध्यान दिया जाना चाहिए कि तालिबान की वापसी के उपरांत ईरान ने अफगानिस्तान में भारतीय नागरिकों को निकालने के लिए भारतीय सैन्य विमानों को हवाई क्षेत्र भी प्रदान किया था।