समाचार
मुंबई में प्रोजेक्ट-75 के तहत अंतिम स्कॉर्पीन पनडुब्बी आईएनएस वागशीर लॉन्च की गई

मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स ने बुधवार को मुंबई में प्रोजेक्ट 75 के तहत छह पनडुब्बियों में से अंतिम आईएनएस वागशीर को लॉन्च किया।

पनडुब्बी को रक्षा सचिव अजय कुमार ने लॉन्च किया।

लॉन्च के पश्चात पनडुब्बी को एक वर्ष से अधिक समय तक व्यापक और कठोर परीक्षणों से गुज़रना होगा, ताकि सुनिश्चित हो सके कि यह पूरी तरह से युद्ध के योग्य है या नहीं।

हिंद महासागर की गहराई में पाई जाने वाली एक घातक शिकारी मछली के नाम पर आईएनएस वागशीर का नाम रखा गया है। पहली वागशीर पनडुब्बी भारतीय नौसेना में दिसंबर 1974 में कमीशन हुई थी। अप्रैल 1997 में इसकी सेवा को बंद कर दिया गया था।

नई पनडुब्बी अपने पुराने संस्करण का नवीनतम अवतार है क्योंकि नौसेना की परिभाषा के अनुसार, एक जहाज का अस्तित्व कभी समाप्त नहीं होता है। एक जहाज-पनडुब्बी के सेवामुक्त होने के बाद भी एक नया जहाज-पनडुब्बी पुराने जहाज को उसी नाम से बदल देता है।

नवंबर 2020 में नौसेना ने प्रोजेक्ट-75 के तहत चौथी पनडुब्बी को चालू किया। फरवरी में पाँचवीं पनडुब्बी के लिए समुद्री परीक्षण शुरू हुआ था।

आईएनएस कलवरी, आईएनएस खंडेरी और आईएनएस करंग को पहले ही कमीशन किया जा चुका है।