इन्फ्रास्ट्रक्चर
रेलवे स्टेशनों का होगा आधुनिकीकरण, 50 स्थानों पर होंगी हवाई अड्डे जैसी सुविधाएँ

भारतीय रेलवे 2019 में 7,500 करोड़ रुपये के निवेश के साथ देश के 50 रेलवे स्टेशनों का पुनर्विकास करेगी, हिंदुस्तान टाइम्स  की रिपोर्ट में बताया गया। सुरक्षा और यात्री प्रवाह प्रबंधन में सुधार के लिए हवाई अड्डों पर अलग आगमन और प्रस्थान क्षेत्रों जैसी नई सुविधाएँ आधुनिकीकरण योजना का हिस्सा होंगी।

अधिकांश प्रमुख स्टेशनों पर आगमन और प्रस्थान अलगअलग होंगे। “हालाँकि जिन स्टेशनों पर ज़्यादा भीड़ नहीं होती है, वहाँ मौजूदा व्यवस्था ही लागू होगी।”, भारतीय रेलवे स्टेशन विकास निगम के प्रबंध निदेशक एस के लोहिया ने कहा।

उन्होंने कहा, “जगह के आधार पर हम तय करेंगे कि आगमन और प्रस्थान अलगअलग स्तरों पर या एक ही स्तर पर विभाजन करने के उपरांत अलग हो पाएँगे या नहीं।

जबकि गांधीनगर, हबीबगंज, चारबाग और गोमतीनगर स्टेशनों पर रेलवे स्टेशनों पर काम मार्च 2019 तक पूरा होने की उम्मीद है कंपनी पहले ही 43 अन्य स्टेशनों के लिए काम कर चुकी है।

आईआरएसडीसी ने नागपुर, बैयप्पनहल्ली, अमृतसर, ग्वालियर, साबरमती, और ठाकुरली में स्टेशनों के पुनर्विकास के लिए निविदाएँ बुलाने की योजना बनाई है।

स्टेशनों पर वाईफाई

जबकि भारतीय रेलवे गूगल  के सहयोग से अब देश भर के 700 से अधिक स्टेशनों पर मुफ्त सार्वजनिक वाईफाई सेवा प्रदान करता है इसने टाटा समूह में भारत के अन्य 4,000 स्टेशनों पर मुफ्त में वाईफाई सुविधा प्रदान करने के लिए  मना लिया  है।