इन्फ्रास्ट्रक्चर
राष्ट्र अनुबंधन- भारतमाला के लिए जारी किए जाएँगे 10,000 करोड़ रुपए के अनुबंध

संसद में केंद्र सरकार ने कहा है कि भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) वर्तमान आर्थिक वर्ष में भारतमाला के लिए कर योग्य अनुबंध जारी कर 10,000 करोड़ रुपए एकत्रित करेगा, बिज़नेस स्टैंडर्ड  की रिपोर्ट में बताया गया।

चल रहे शीतकालीन सत्र में केंद्रीय राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, “सार्वजनिक क्षेत्र में जारी कर भारतमाला के लिए कर योग्य अनुबंध बढ़ाने के लिए एक ड्राफ्ट शेल्फ प्रोस्पेक्टस (डीएसपी)/ऑफर डॉक्यूमेंट स्टॉक एक्सचेंज और एसईबीआई के साथ दायर किया गया है जिससे 10,000 करोड़ रुपए की शेल्फ सीमा तक पैसा बढ़ाया जाएगा।”

उन्होंने कहा, “राशि निरंतर बढ़ाई जा रही है तथा अभी तक कुल 41,170 करोड़ रुपए की राशि एकत्रित की जा चुकी है।” केंद्रीय बजट एनएचएआई को भारतमाला सहित विभिन्न वित्तीय संसाधनों से 62,000 करोड़ रुपए तक की राशि एकत्रित करने का अधिकार देता है।

भारतमाला अनुबंध

यह अनुबंध एनएचएआई द्वारा जारी किए जाते हैं जिसे अत्यधिक विश्वसनीय “एएए” श्रेणी का माना जाता है। इनका उपयोग देश की सड़क निर्माण परियोजनाओं में किया जाता है तथा इन अनुबंधों का कूपन दर 8.5 प्रतिशत होता है।

पूर्व में गडकरी ने कहा था, “सेवानिवृत्ति कारणों से लोग बैंक में पैसा जमा करते हैं जहाँ 6 प्रतिशत की ब्याज दर से पैसा मिलता है, मैं आपको इससे 2.50 प्रतिशत अधिक दूँगा। मैं आपको 8.50 प्रतिशत की ब्याज दर से पैसा दूँगा और यह पाँच साल तक प्रत्येक महीने आपको दिया जाएगा।”

एनडीए सरकार की इस एक प्रमुख निर्माण परियोजना के अंतर्गत 34,800 किलोमीटर के राष्ट्रीय राजमार्गों का विकास तथा उन्नयन का कार्य होता है। यह देशभर में निर्माण सुनिश्चित कर सामान तथा यात्रियों के आवागमन को सुगम बनाने का उद्देश्य रखती है।